मुंबई,

सर्च इंजन गूगल ने आज प्रसिद्ध फिल्मकार, अभिनेता और लेखक शांताराम राजाराम वानकुद्रे की 116वीं जयंती के मौके पर उनके सम्मान में एक डूडल बनाया।

डूडल में शांताराम को विचारशील मुद्रा में चित्रित किया गया है और उनके पास गुजरे जमाने में फिल्मों में इस्तेमाल होने वाला कैमरा, उनकी एक मराठी फिल्म एवं दो अन्य ब्लॉकबस्टर फिल्मों ‘दो आंखे बारह हाथ’ और ‘झनक झनक पायल बाजे’ के चित्रों की मदद से ‘गूगल’ शब्द बनाया गया है।

उल्लेखनीय है कि सिनेमा जगत के पितामह व्ही शांताराम को एक ऐसे फिल्मकार के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने सामाजिक और पारिवारिक पृष्ठभूमि पर अर्थपूर्ण फिल्में बनाकर लगभग छह दशकों तक सिने दर्शकों के दिलों में अपनी खास पहचान बनायी।

व्ही शांताराम: मूल नाम राजाराम वानकुदरे शांतारामः का जन्म 18 नवंबर 1901 को महाराष्ट्र के कोल्हापुर में हुआ था।व्ही शांताराम को अपने करियर में मान-सम्मान भी बहुत मिला ।

वर्ष 1985 फिल्म निर्माण में उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये वह फिल्म इंडस्ट्री के सर्वोच्च सम्मान दादा फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किये गये।

इसके अलावा वर्ष 1992 में उन्हें पद्मविभूषण पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया।व्ही शांतारम ने अपने छह दशक लंबे सिने करियर में लगभग 50 फिल्मों को निर्देशित किया।उनके करियर की उल्लेखनीय फिल्मों में कुछ है।

चंद्रसेना, माया मछिन्द्रा, अमृत मंथन, धर्मात्मा, दुनिया ना माने, पड़ोसी, अपना देश, दहेज, परछाइयां, तीन बत्ती चार रास्ता, सेहरा, बूंद जो बन गये मोती, पिंजरा आदि अपनी फिल्मों के जरिये दर्शको के बीच खास पहचान बनाने वाले महान फिल्मकार व्ही शांताराम 30 अक्टूबर 1990 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

Related Posts: