13as3भोपाल,13 जुलाई, नभासं. राजधानी में सोमवार को करीब 6 हजार स्कूली वैनों के पहिए थम रहे. वैन संचालक हड़ताल पर चले गए थे इससे स्कूली बच्चों एवं उनके पालकों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा.

आरटीओ द्वारा इस बारे में कड़े कदम उठाए जाने से राजधानी के स्कूलों में बच्चों को लाने ले जाने वाले लगभग सभी वैन संचालक हड़ताल पर हैं. वे सुप्रीम कोर्ट, बाल आयोग और राजधानी के कलेक्टर के निर्देशों के बाद भी परमिट और फिटनेस सर्टिफिकेट लेने में रुचि नहीं ले रहे हैं.

क्यों है नाराजी
6 हजार वैनों में से अब तक करीब 100 वैन संचालकों ने ही रजिस्ट्रेशन करवाया है. जिससे आरटीओ ने वैन संचालकों के खिलाफ कड़ा कदम उठाया था. इसी से नाराज वैन संचालक सोमवार को अवकाश पर थे. जानकारी के अनुसार कमर्शियल वैन का प्रतिमाह प्रति सीट 180 रुपए टैक्स लगता है.

इस आधार पर एक सात सीटर वैन को प्रति माह 1260 रुपए टैक्स देना होता है. इसके तहत सालभर में एक बार मेंटेनेंस कर फिटनेस कराना भी अनिवार्य माना गया है, लेकिन वैन संचालक वाहन का फिटनेस टेस्ट नहीं करवा पा रहे है.

Related Posts: