ड्रेसिंग रूम में मोबाइल फोन का उपयोग दोषी माना जाता है
विराट पर लग सकता था बैन के साथ जुर्माना भी

नई दिल्ली, भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली पर न्यूजीलैंड के खिलाफ दिल्ली के पहले टी-20 मैच में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के नियमों के उल्लंघन का आरोप लगा है. हांलाकि उनको आईसीसी ने क्लीनचीट दे दिया है, लेकिन अगर कोहली दोषी पाए जाते तो उन पर बैन लग सकता था.

आईसीसी द्वारा बनाए गए नियमों के मुताबिक अगर कोई भी खिलाड़ी ड्रेसिंग रूम में मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते पाया जाता है तो उसे आईसीसी एंटी डोपिंग का दोषी माना जाएगा यानि विराट कोहली पर कुछ जुर्माना या बैन लग सकता था.

आईसीसी ने दी क्लीन चिट

विराट यहां फिरोजशाह कोटला मैदान पर न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले ट्वेंटी-20 मुकाबले के दौरान डग आउट में बैठकर वॉकी-टॉकी का इस्तेमाल करते देखे गए जो आईसीसी के नियमों के खिलाफ है. टीवी पर इसकी फुटेज सामने आने के बाद ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि आईसीसी भारतीय कप्तान पर कार्रवाई कर सकती है.

आईसीसी ने कहा कि वॉकी टॉकी का इस्तेमाल ड्रेसिंग रूम और डग आउट के बीच संपर्क करने के लिए इस्तेमाल किया गया. विराट ने इसका इस्तेमाल करने से पहले संबंधित अधिकारियों से इसकी इजाजत ली थी और अब उन्हें इस मामले में क्लीन चिट दे दी गई है. बीसीसीआई के अनुसार मैच के दौरान छह आधिकारिक वॉकी-टॉकी उपलब्ध थे जिनमें से एक का उपयोग विराट ने किया.

विराट को टीवी फुटेज में डगआउट में बैठे हुये वॉकी टॉकी पर बात करते हुये दिखाया गया था. बोर्ड ने कहा कि इस मामले में विराट ने कोई नियम उल्लंघन नहीं किया है और वह महज़ ड्रैसिंग रूम में पानी के लिये बात कर रहे थे.

हमने आईसीसी को इस बारे में जानकारी दे दी है. उन्होंने कहा कि विराट ने कुछ गलत नहीं किया है.उन्होंने किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया है. विराट ने भ्रष्टाचार रोधी इकाई के मैनेजर से इसके लिये अनुमति ले ली थी.

Related Posts: