laxmikant-sharmaभोपाल,  व्यापमं घोटाले के आरोपी एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा ने आज कहा कि इस मामले में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख नेताओं की कोई भूमिका नहीं है।

हाल में जेल से रिहा होकर आए पूर्व मंत्री शर्मा ने यहां मीडिया के सवालों के जवाब में कहा कि संघ के पूर्व प्रमुख दिवंगत के एस सुदर्शन और वरिष्ठ नेता सुरेश सोनी के नाम इस मामले में कैसे आए इसकी जांच होना चाहिए। तत्कालीन उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री शर्मा ने कहा कि संघ के दोनों प्रमुख नेताओं ने उनके समक्ष कभी कोई सिफारिश नहीं की। नपे तुले शब्दों में जवाब दे रहे शर्मा ने दावा किया कि उन्होंने व्यापमं मामले में कभी काेई पैसा नहीं लिया।

भाजपा में वापसी संबंधी सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि इस संबंध में अभी किसी ने संपर्क नहीं किया है। हालाकि उन्होंने उनका समर्थन करने वाले कुछ नेताओं के प्रति धन्यवाद दिया।

व्यापमं घोटाले के आरोपी तत्कालीन मंत्री शर्मा लगभग डेढ वर्ष बाद भोपाल जेल से रिहा हुए हैं। इसके बाद वह विदिशा जिले में स्थित अपने गृह नगर सिरोंज रवाना हो गए थे।