High_Courtजबलपुर, 24 अप्रैल. व्यापमं घोटाले की जांच पर निगरानी के लिए गठित एसआईटी की तरफ से हाईकोर्ट में मि. एक्स के दस्तावेजों की प्राथमिक जांच रिपोर्ट पेश की। एसआईटी ने सात कारण बताते हुए मि. एक्स के दस्तावेजों को कुटरचित (फर्जी) बताया।

हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस अजय मानिकराव खानविलकर व जस्टिस आलोक अराधे की युगलपीठ को एसआईटी की तरफ से बताया गया कि जांच को प्रभावित करने के लिए उक्त कूटरचित दस्तावेज तैयार किये गये हैं। मि. एक्स ने कहा था उसे प्रदेश सरकार व एसटीएफ से खतरा है, इसलिए वह वास्तविक एक्ससीट दिल्ली हाईकोर्ट के हवाले करना चाहता है।

Related Posts:

श्री श्री रविशंकर से मांगी गई थी रिश्वत
जो गधे रखा करते थे, आज वो जेसीबी रखने लगे हैं : मोदी
दिमित्रि की आंधी में उड़े गांगुली के वॉरियर्स
साँची बुद्धिस्ट यूनिवर्सिटी के शिलान्यास पर दो राष्ट्रों के प्रतिनिधि होंगे शामि...
मित्तल की तीखी प्रतिक्रिया: दान-पुण्य करें जकरबर्ग
केरल के पुत्तिंगल मंदिर में भीषण आग, आतिशबाजी से 110 मरे, 400 घायल