vyapamभोपाल, व्यवसायिक परिक्षा मंडल (व्यापम) घोटाले की जांच ने हाथों में लेने के बाद सीबीआई ने पहली बार एक साथ करीब 40 जगहों पर छापामार कारर्वाई की है. इनमें भोपाल, इंदौर, लखनऊ, विदिशा, रीवा, जबलपुर, उज्जैन, इलाहाबाद शहर शामिल है.

सीबीआई ने राज्यपाल रामनरेश यादव के लखनऊ स्थित निवास के सात पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा के विदिशा में स्थित निवास पर पहुंच गई. लक्ष्मीकांत शर्मा इस समय जेल में है. उल्लेखनीय है कि इस से पहले सीबीआई ने जुलाई 2015 से सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद व्यवसायिक परिक्षा मंडल में हुए महाघोटाले की जांच शुरू की थी. अब सीबीआई 102 एफआईआर दर्ज कर चुकी है.

सूत्रों के मुताबिक सीबीआई की करीब 450 लोगों की 40 टीमों ने एक साथ उक्त शहरों में व्यापम फर्जीवाड़े से जुड़े आरोपी तथा दलालों के यहां छापमार कारवाही कर घोटालों से संबंधित दस्तावेज जब्ती की कारवाही कर रही है. बताया जाता है कि देर रात सभी शहरों के लिए टीमें रवाना हो गई थी. पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा के सिरोंज स्थित निवास सीबीआई की टीम सुबह साढ़े आठ बजे पहुंच गई थी. घर में लक्ष्मीकांत के दो भाई उमाकांत शर्मा और नलिनीकांत शर्मा मौजूद थे. दोनों भाईयों से भी टीम ने लंबी पूछताछ की. लखनऊ में भी म.प्र के राज्यपाल के बेटे शेलेष यादव के निवास और एक पेट्रोल पंप पर कार्रवाई की गई. शेलेष की कुछ महीनों पहले उनके घर मं संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो चुकी है. राज्यपाल के पूर्व ओएसडी धनराज यादव के रिश्तेदार के यहां भी इलाहबाद में भी छापेमारी की गई. प्रश्न पत्र हल करने के आरोप में जेल में बंद दो आरोपियों के यहा भी सीबीआई ने जांच की. वही फर्जीवाड़े के मु य आरोपी पंकज त्रिवेदी के भोपाल और इंदौर स्थित आवासों पर भी छापे की कार्रवाई की. इस मामले में अन्य आरोपी संजीव सक्सेना, भरत मिश्रा, नितिन महिद्रा, सीके मिश्रा, संतोष गुप्ता, के यहां भी सीबीआई ने दबिश दी. इस दौरान एक टीम ने व्यापम कार्यालय पहुचकर दस्तवेजों की जांच की.सीबीआई की टीम ने यहां दस्तावेज और कंप्यूटर खंगाले.

Related Posts: