shani_signapurपुणे,   महाराष्ट्र के अहमद नगर के प्रसिद्ध शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं के पवित्र चूबतरे की पूजा नहीं करने की 400 साल पुरानी परंपरा शुक्रवार को टूट गई.

शनि शिंगणापुर मंदिर ट्रस्ट द्वारा मंदिर के पवित्र स्थान पर पूजा करने की इजाजत मिलने के बाद शुक्रवार से महिलाओं ने वहां पूजा शुरू कर दी. सालों पुरानी परंपरा को तोड़ते हुए पहले दो महिलाओं ने वहां पूजा की. इसके बाद भू माता ब्रिगेड की अध्यक्ष तृप्ति देसाई ने चबूतरे में प्रवेश कर शनि की पूजा की.
इससे पहले मंदिर की तरफ से किसी भी विवाद से बचने के लिए परंपरा को छोडऩे का ऐलान कर महिला व पुरुष दोनों को ही चबूतरे से दूर रखने का फैसला किया गया था.

इस पर लोगों का कहना था कि गुड़ी पड़वा या नव वर्ष के मौके पर देवता को नहलाने की परंपरा का क्या होगा? इस बात को लेकर पहले ही अंदाजा लगाया जा रहा था कि कुछ लोग इस फैसले का विरोध कर मंदिर में घुसने की कोशिश कर सकते हैं. यह अंदाजा सही साबित हुआ, जब शुक्रवार को कुछ भक्त जबर्दस्ती मंदिर परिसर में घुस आए और पवित्र स्थान पर पूजा की. गुड़ी पड़वा के अवसर पर अनुमान के मुताबिक कुछ लोग बैरिकेड तोड़ते हुए पवित्र चबूतरे पर पहुंच गए और पूजा की.

 

Related Posts: