भोपाल,  वार्ड क्र. 11 स्थित शाहजहांबाद कुम्हारपुरा में बनी कलारी को हटाने की मांग को लेकर कलारी के सामने धरना दिया, जिसमें बड़ी संख्या में क्षेत्रीय महिलाएं व रहवासी उपस्थित हुये.

इस अवसर पर पार्षद मेवालाल कनर्जी ने कहा कि मंदिर के निकट स्थित कलारी घनी आबादी के क्षेत्र में है और यह क्षेत्र संवेदनशील है. यहां पर दोनों समुदाय के बीच आये-दिन वाद-विवाद की स्थिति निर्मित हो जाती है. शराबी नशे की हालत में उपद्रव मचाते हैं जिस कारण घरों में बैठी माता, बहनें व श्रद्धालुओं को मंदिर आने-जाने में कठिनाई होती है. नशेलों की वजह से एक्सीडेंट हो जाते हैं. म.प्र. कांग्रेस कमेटी के पूर्व सचिव अब्दुल नफीस ने कहा कि सरकार नशे के खिलाफ गंंभीर नहीं है. जगह-जगह शराब की दुकानें खोली जा रही हैें. इस कलारी को हटाने के साथ ही म.प्र. में पूर्ण रूप से शराबबंदी की जाये.

वहीं पार्षद रईसा मलिक ने कहा कि घने क्षेत्रों में नई कलारी की दुकानें खुल रही हैं, इन्हें बंद किया जाये क्योंकि स्कूल जाने वाले छात्र-छात्राएं जब कलारी की दण्ुकान के सामने से निकलते हैें तो नशे की हालत में छेड़छाड़ का शिकार होते हैं. पार्ष शाहवर मंसूरी ने कहा कि कलारी की दुकानों से रहवासियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है व कलारी होने के कारण बच्चे नशे के आदी बन जाते हैं. इस अवसर पर प्रमुख रूप से युवा कांग्रेस अध्यक्ष फैसल नईम, गौरव अवस्थी, नूरभाई, मो. अफसर राजा, मो. अंसार, आबिद भाई आदि धरने में उपस्थित थे.

Related Posts: