चेन्नई,  आयकर विभाग के अधिकारियों ने “क्लीन मनी” अभियान के तहत अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) से निष्कासित नेता शशिकला और उनके परिवार के सदस्यों के 180 से अधिक आवासीय तथा व्यावसायिक ठिकानों पर आज छापेमारी की।

सुश्री शशिकला और उनके परिवार के सदस्यों पर नोटबंदी के बाद फर्जी कंपनियों के माध्यम से पैसों की हेराफेरी करने का आरोप है। सुश्री शशिकला के भतीजे टी टी वी दिनाकरण ने इस छापेमारी को “राजनीति से प्रेरित” बताते हुए कहा है कि इसका उद्देश्य उन्हें और उनकी चाची को राजनीति में अलग-थलग करना है।

आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक ये छापेमारी विभिन्न राज्यों में की गयीं। उन्होंने बताया कि नोटबंदी के बाद फर्जी कंपनियों के जरिए बड़े पैमाने पर धन की हेराफेरी की गयी थी जिसके कारण ये छापेमारी की गयीं।

जया टी वी के कार्यालय पर भी आयकर विभाग के अधिकारियों ने छापा मारा। इस चैनल का संचालन जेल में बंद सुश्री शशिकला के हाथों में है। इसके अलावा अन्नाद्रमुक के मुखपत्र ‘नमाधु एमजीआर’ के संपादक तथा शशिकला के पति एम नटराजन और उनके भाई दिवाकरण के तिवरुर जिला के मन्नारगुडी स्थित निवास समेत उनके परिवार के सभी सदस्यों, परिवार के सदस्यों से जुड़े तमाम व्यावसायियों तथा कोडनाड इस्टेट के परिसरों पर भी छापेमारी की गयी।

सूत्रों के मुताबिक छापेमारी सुबह छह बजे सभी स्थानों पर एक साथ शुरू की गयी। तमिलनाडु के अलावा कर्नाटक और दिल्ली स्थित 10 विभिन्न समूहों, जिसमें सुराना, जैज सिनेमा, मैदास डिस्टेलिएरी लिमिटेड और व्यवसायी अरुमुगास्वामी के कोयम्बटूर स्थित व्यावसायिक ठिकाने शामिल हैं, के अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी की गयी।

Related Posts: