ujjain5उज्जैन,  भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने यहां चल रहे सिंहस्थ कुंभ में आज आदिगुरु शंकराचार्य की जयंती के अवसर पर वाल्मीकि, रैदास और रैगर समाज के संतों के साथ पवित्र क्षिप्रा नदी में स्नान किया और उन संतों का अभिनंदन करके सामाजिक एकात्मकता का संदेश दिया.

बाद में शाह ने दीनदयाल शोध संस्थान के एक आयोजन में इन संतों के साथ बैठ कर भोजन भी किया. वह दलित संत सोहन दास की समाधि पर भी पहुंचे और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. संत सोहन दास वडोदरा के गायकवाड़ वंश के राजाओं के गुरु थे.

इस मौके पर शाह के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, उपाध्यक्ष और प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान, मुख्यमंत्री की पत्नी साधना सिंह और विभिन्न वर्गों के संतों के अलावा पार्टी के कई वरिष्ठ नेता मौजूद थे.

इससे पहले शाह ने वाल्मीक धाम आश्रम में संत समागम में देश के तकरीबन 40 अत्यंत प्रतिष्ठित संतों का अभिनंदन किया, जो दलित समुदाय को भक्तिमार्ग की मुख्यधारा से जोडऩे का संदेश देने पधारे थे.