pranabकलबुर्गी,  राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने उच्चतर शिक्षा संस्थानों से अपनी साख को बेहतर बनाने के लिए अधिक सक्रिय होने का आग्रह किया है।

श्री मुखर्जी ने यहां कर्नाटक के केन्द्रीय विश्वविद्यालय में दूसरे सालाना दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए आज कहा कि भारत को इस बात का फख्र है कि यहां शताब्दियों पहले शिक्षा प्रणाली की आधारशिला रख दी गयी थी, इसके बावजूद यहां के उच्चतर शिक्षा संस्थान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पिछड़े हुए हैं।

इसके लिए इन संस्थानों में रिक्त पदों को जल्दी भरना और अध्यापन के व्यवसाय की तरफ श्रेष्ठ लोगों को आकर्षित करना महत्वपूर्ण है।

Related Posts: