20 btl 1बैतूल के ग्राम मर्दवानी में फसल क्षति का जायजा लेने पहुँचे मुख्यमंत्री, 

बैतूल,20 मार्च, नससे. नर्मदापुरम् संभाग के बैतूल जिले के ग्राम मर्दवानी में आज प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान किसानों के बीच पहुँचे और खेतों में जाकर फसल क्षति का जायजा लिया। उन्होंने इस दौरान भादू आदिवासी के खेत में ओला वृष्टि से क्षतिग्रस्त फसल देखी तथा उपस्थित किसानों को ढांढस बंधाते हुए कहा कि चाहे विकास कार्यो को रोकना पड़े लेकिन किसानो की फसल क्षति पूर्ति के रूप में पर्याप्त राशि उपलब्ध कराई जाएगी।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम खंजनपुर के धीरज उइके को मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना के तहत 8.96 लाख रूपए का चेक प्रदान किया। इस दौरान प्रभारी मंत्री सरताज सिंह, सांसद श्रीमती ज्योति धुर्वे, बैतूल विधायक हेमंत खंडेलवाल, शाहपुर विधायक सज्जन सिंह उइके, मुलताई विधायक चंद्रशेखर देशमुख, आमला विधायक चेतराम मानेकर, भेंसदेही विधायक महेन्द्र सिंह चौहान, कमिश्नर व्ही.के.बाथम,पुलिस महानिरीक्षक सतीश सक्सेना व कलेक्टर ज्ञानेश्वर पाटिल सहित विभिन्न अधिकारी व जनप्रतिनिधिगण भी मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने उपस्थित जन समुदाय को सम्बोधित करते हुए कहा कि फसल क्षति आकलन में जनता की भागीदारी सुनिश्चित करवायी जाये। राजस्व, कृषि, ग्रामीण विकास विभाग के साथ जनता के बीच के पाँच लोग भी सर्वे दल में हों। इसके बाद राहत राशि वितरित करवायी जाये। सर्वे सूची को पंचायत भवन में प्रदर्शित करवाये जाने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिये। उन्होंने कहा कि किसान की 50 प्रतिशत से अधिक क्षति को शत-प्रतिशत नुकसान माना जायेगा, जिसमें 15 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से राहत राशि दी जायेगी। इसके अतिरिक्त किसानों से उनके कर्जे की वसूली नहीं होगी और ब्याज शासन द्वारा वहन किया जायेगा। उन्होंने फल न लगने वाली अरहर फसल का सर्वे करने के निर्देश भी दिए।

चौहान ने कहा कि किसानों को आगामी सीजन में शून्य प्रतिशत ब्याज पर कर्ज मिलेगा तथा फसल आने तक एक रूपये प्रति किलो गेहूँ, चावल एवं नमक वितरित किया जायेगा। इसके साथ ही शत-प्रतिशत प्रभावित कृषकों को बच्चियों की शादी के लिये 25 हजार की अतिरिक्त राशि भी दी जायेगी। उन्होंने आगामी फसल की पैदावार आने तक प्रभावितों से बिजली के बिल की वसूली नहीं किये जाने की बात इस दौरान कही। मुख्यमंत्री ने कमिश्नर एवं कलेक्टर को निर्देशित किया कि क्राप कटिंग परीक्षण कर फसल बीमा का लाभ दिलानें की पहल करें। इसमें बीमा कम्पनी द्वारा प्रदत्त राशि के अतिरिक्त जो राशि किसानों को देय होगी, उसे शासन वहन करेगा। उन्होंने कलेक्टर को निर्देशित किया कि प्रत्येक खेत का सही-सही सर्वे करवाकर रिपोर्ट भेजी जाये। जन-प्रतिनिधियों के सहयोग की भी अपेक्षा मुख्यमंत्री ने की।

Related Posts: