नयी दिल्ली,  सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी एचसीएल के संस्थापक एवं अध्यक्ष शिव नादर पिछले साल 630 करोड़ रुपये का दान कर देश के सबसे बड़े दानी बन गये हैं।

वर्ष 2015 में पहले नंबर पर रहने वाले विप्रो के अजीम प्रेमजी 13वें नंबर पर खिसक गये हैं।

हुरुन रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा आज जारी सूची में 27 भारतीयों को जगह मिली है।
पिछली सूची में 36 भारतीय सूची में शामिल थे।

श्री नादर ने शिव नादर फाउंडेशन के जरिये 630 करोड़ रुपये का दान किया।
इसमें 458 करोड़ रुपये शिव नादर विश्वविद्यालय के लिए अतिरिक्त आधारभूत ढाँचा बनाने पर खर्च किया गया। 
पिछले साल वह छठे स्थान पर रहे थे।

पिछले साल 17वें स्थान पर रहने वाले इंफोसिस के 61 वर्षीय सहसंस्थापक क्रिस गोपालकृष्णन और उनकी पत्नी सुधा दूसरे स्थान पर रहीं। उन्होंने अपने ट्रस्ट के जरिये 313 करोड़ रुपये दान किये।

रिलायंस इस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी स्वास्थ्य सेवाओं के लिए 303 करोड़ रुपये का दान देकर तीसरे स्थान पर रहे।

भारतीयों में शीर्ष दस में इसके बाद क्रमश: पूनावालिया समूह के साइरस एस. पूनावालिया (250 करोड़ रुपये), बजाज आॅटो के राहुल बजाज और परिवार (244 करोड़ रुपये), स्वदेश फाउंडेशन के रूनी स्क्रूवाला (160 करोड़ रुपये), पिरामल इंटरप्राइजेज के अजय पिरामल (111 करोड़ रुपये), गोदरेज परिवार (75 करोड़ रुपये), शापूरजी पालोनजी समूह के शापूरजी पालोनजी मिस्त्री (68 करोड़ रुपये) और जिंदल स्टील एंड पावर की सावित्री जिंदल एवं परिवार (53 करोड़ रुपये) का स्थान रहा।

Related Posts: