27 btl  3बैतूल, 27 मार्च, नससे. पूर्व केन्द्रीय मंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव ने कहा है कि प्रदेश के राज्यपाल रामनरेश यादव के पुत्र शैलेष यादव की संदिग्ध परिस्थिति में हुई मौत के लिए सरकार को सीबीआई जांच कराना चाहिए।
शैलेष पर एसटीएफ जिस तरह दबाव बना रही थी, इसके बाद वे तनाव में थे।

जांच के बाद मामले की असलियत उजागर हो जाएगी। श्री यादव ने यह बात गांव-गांव चलो, घर-घर चलो अभियान के तहत एक दिवसीय प्रवास पर बैतूल पहुंचने के दौरान सर्किट हाउस में पत्रकारों से कही। यादव ने कहा कि केन्द्र और प्रदेश की भाजपा सरकार की नाकामियों को उजागर करने के लिए गांव-गांव चलो घर-घर चलो अभियान की शुरूआत की गई है।

पूरे प्रदेश में कांग्रेस कार्यकर्ता गांव-गांव जाकर सरकार की नाकामियों को बता रहे हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार भूमि अधिग्रहण बिल संसद में पास कराकर किसानों के साथ अन्याय कर रही है। वहीं प्रदेश में देश का सबसे बड़ा व्यापम घोटाला उजागर हुआ है। इसके अलावा स्थानीय मुद्दों को साथ लेकर सरकार की नाकामियों के साथ आम लोगों से मिलकर रूबरू हो रहे हैं।

श्री यादव ने आरोप लगाया कि प्रदेश में ओलावृष्टि और अतिवृष्टि से फसलों को काफी नुकसान हुआ है। मेरीे जानकारी में आया है कि बैतूल में भी किसानों को न तो मुआवजा ठीक से मिला और न सर्वे ठीक से हुआ है। उन्होंने सवाल उठाया है कि जब महाराष्ट्र, बिहार और यूपी सरकार को केन्द्र ओलावृष्टि से बर्बाद फसलों के लिए विशेष पैकेज दे सकती है तो प्रदेश के साथ अन्याय क्यों किया जा रहा है। हमारे प्रदेश के भी 10 लाख किसानों की फसलों का नुकसान हुआ है।

श्री यादव ने कहा कि जब किसानों का 15 हजार करोड़ का बीमा बकाया है फिर सरकार हाईकोर्ट के निर्देश के बावजूद देने से इंकार क्यों कर रही है। एक प्रश्न के जवाब में श्री यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार विपक्ष की आवाज को कुचलने का प्रयास कर रही है। विधायकों को जनता चुनकर भेजती है।

सदन में वह अपनी बात रखना चाहता है तो सरकार बोलने का अवसर नहीं देती। इसी वजह हमारे कांग्रेस विधायक चार दिनों से विधान सभा में ही ओलावृष्टि, किसानों के लिए मुआवजा, बिजली बिल माफ करने जैसे मुद्दे को लेकर धरने पर बैठा है.

Related Posts: