mp4उज्जैन,  बाबा महाकाल के श्रद्धालुओं को प्रतिदिन ताजी एवं स्वादिष्ट प्रसाद वितरण करने के उद्देश्य से प्रतिदिन आवश्यकतानुसार प्रसादी बनवाई जाती है। सिंहस्थ को देखते हुए प्रसादी निर्माण एवं वितरण के लिए योजना बनाई गई है। बाबा महाकाल के दर्शनों के लिए प्रतिदिन आने वाले श्रद्धालुओं का आंकलन कर 4000-5000 लड्डू पैकेट प्रतिदिन बनाये जा रहे हैं।

महाकाल सहायक प्रशासक प्रीति चौहान ने बताया कि सिंहस्थ के मद्देनजर महाकाल प्रबंधन समिति ने नवीन भवन में लड्डू एवं प्रसादी बनाने का कार्य प्रारम्भ कर दिया है। चिंतामन जवासिया में स्थित नवीन परिसर में 5 मार्च से प्रसादी निर्माण का कार्य प्रारम्भ हुआ है। यहां 15-20 कर्मचारी प्रतिदिन प्रसादी निर्माण में लगे रहते हैं। यहां से प्रसादी पैकेटों में सुरक्षित रख कर महाकाल मंदिर परिसर में पहुंचाई जाती है।

काजू किसमिस और इलायची युक्त होती है प्रसादी – बाबा महाकाल की प्रसादी निर्माण में बेसन, रवा व शुद्ध घी का उपयोग किया जाता है। प्रसादी को और स्वादिष्ट बनाने के लिए काजू, किसमिस और इलायची मिलायी जाती है। महाकाल प्रसाद एवं लड्डू निर्माण इकाई में प्रतिदिन 4-5 हजार लड्डुओं के पैकेट बनाये जाते हैं जिसमें 200 ग्राम से 1 किलो तक के पैकेट शामिल है।

Related Posts: