mp2बरेली,  शासन भलेही नाबालिगों पर होने वाले अत्याचार को रोकने के लिए नियम कानून बना दे, लेकिन इनका वास्तविकता के धरातल पर उपयोग हो रहा है .

यह बात दूसरी है नगर में इन दिनों खुलेआम बाल श्रमिकों को काम करते देखा जा सकता है. बावजूद इसके श्रम विभाग ऐंसे दृश्यों को अनदेखा कर रहा है,शादी विवाह के इस सीजन में नाबालिगों से काम कराने की होड ठेकेदारों में दिखाई दे रही है. शादी में केन्टीन में नाबालिग ही मेहमानो को खाना खिलाते दिखाई देते हैं वहीं बरातों के आसपास अपने सिर पर बल्व लिए नाबालिगों की संख्या को देखकर कहा जा सकता है कि श्रम विभाग नाबालिगों के प्रति कितना जिम्मेदार है. यहां तक की कुछ शादियों में तो कुछ प्रशासन के अधिकारी शामिल होते हैं, बावजूद इनके इन बाल श्रम करवाने वालों पर किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नही की जाती.

बाल श्रम को होते उलंघन के चलते दिनों दिन बाल श्रमिकों से काम कराने की प्रवृति ठेकेदारों में बढती जा रही है. पूर्व में एनएच मार्ग निमार्ण के समय भी नाबालिग काम करते दिखाई दिए थे. सडकों पर खुले आम अपने सिर पर बोझ उठाकर पैसे कमाते लोगों के साथ इनकी संख्या होटलों में भी बढ रही है होटलों में इन बाल श्रमिकों को कम दाम पर रख कर इनसे पूरे दिन काम करवाया जाता है.

Related Posts: