srinagar1श्रीनगर,  जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में आज विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए एहतियाती कदम उठाते हुए कुछ और इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया। कश्मीर घाटी में कर्फ्यू,प्रदर्शनों और हड़ताल के कारण पिछले 98 दिनों से जनजीवन अस्तव्यस्त है। घाटी के कुछ प्रमुख शहरों एवं तहसील मुख्यालयों में लोगों के इकट्टा होने पर पाबंदी है। सोपाेर में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बनाये रखने के लिए कर्फ्यू लगाया गया है।

इस बीच अलगाववादियों के आज “राज भवन” चलो को विफल करने के लिए गुप्कर और बोउलवार्ड में अतिरिक्त सुरक्षा बलों और राज्य पुलिस के जवानों को तैनात किया गया है। पुलिस ने बताया कि बटमालू के अलावा शहर-ए-खास के पांच पुलिस थाना क्षेत्रों में आने वाले इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया है। जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के अध्यक्ष मोहम्मद यासीन मलिक के प्रभाव वाले इलाके मैसुमा की तरफ जाने वाली सभी सड़कों को फिर बंद कर दिया गया है।

बड़शाह चौक,हाजी मस्जिद,रेडक्रॉस रोड,मेदिना चौक और गॉ कदाल और मैसुमा को कंटीले तारों से बंद रखा गया है। गत नौ जुलाई को अनंतनाग में मुठभेड़ में हिजुबल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी और दो अन्य आतंकवादियों के मारे जाने के बाद से हुर्रियत कांफ्रेंस के दोनों धड़ों और जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट ने आंदोलन छेड़ रखा है और इन संगठनों ने अपनी हड़ताल 20 अक्टूबर तक के लिए बढ़ा दी है।