कोहली के चहेते को चोट से बचाने बोर्ड ने लिया फैसला

नई दिल्ली , धुरंधर आलराउंडर हार्दिक पांड्या को श्रीलंका के खिलाफ 16 नवंबर से शुरू होने वाली तीन टेस्ट मैचों की सीरीज से विश्राम दिया गया है. पांड्या को इस सीरीज के पहले दो टेस्टों के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया था.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने आज एक बयान जारी कर बताया कि सीनियर चयन समिति ने भारतीय टीम प्रबंधन के साथ विचार-विमर्श कर यह फैसला किया कि पांड्या को श्रीलंका के खिलाफ आगामी टेस्ट सीरीज से विश्राम दिया जाए.

चयन समिति का मानना है कि पांड्या ने हाल में काफी क्रिकेट खेली है और उन्हें किसी तरह की बड़ी चोट से बचाने के लिए उन्हें विश्राम देने की जरुरत है. पांड्या विश्राम के इस समय में बेंगलुरु में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में कंडिशनिंग दौर से गुजरेंगे. 24 वर्षीय पांड्या चैंपियंस ट्राफी की शुरुआत के बाद से भारत के 33 मैचों में से 30 मैच खेल चुके हैं. जून के बाद से उन्होंने एकदिवसीय क्रिकेट में 147.2 ओवर फेंके हैं जो किसी भी अन्य गेंदबाज से ज्यादा हैं.

इस साल श्रीलंका में अपना टेस्ट पदार्पण करने वाले पांड्या ने अब तक तीन टेस्ट, 29 वनडे और 24 ट्वेंटी-20 मैच खेले हैं जिनमें उन्होंने क्रमश: 178, 584 और 140 रन बनाने के अलावा चार, 31 और 17 विकेट लिए हैं. पांड्या ने जुलाई में श्रीलंका में अपने पदार्पण टेस्ट में शानदार अर्धशतक बनाया था और फिर पल्लेकेल में तूफानी शतक ठोका था.

उनके शानदार प्रदर्शन से भारत ने आस्ट्रेलिया को वनडे सीरीज में पीटा था जिसमें वह मैन आफ द सीरीज रहे थे. उन्हें विश्राम दिये जाने से टीम को निश्चित ही तेज गेंदबाजी आलराउंडर की कमी खलेगी. लेकिन यह फैसला टीम की रोटेशन नीति के हिसाब से फिट बैठता है.

रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा जैसे स्तरीय स्पिनरों को वनडे और ट्वेंटी-20 से लगातार विश्राम दिया गया जबकि मोहम्मद शमी और उमेश यादव जैसे तेज गेंदबाजों के साथ भी ऐसा ही व्यव्हार किया गया.

उल्लेखनीय है कि पांड्या को न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे और निर्णायक मैच में पारी के आखिरी ओवर की दूसरी गेंद पर कोलिन डी ग्रैंडहोम का जबर्दस्त शॉट रोकने की कोशिश में बाएं हाथ में चोट लग गई थी. पांड्या उस समय दर्द से कराह उठे थे और फिजियो को मैदान में आना पड़ा था.

हालांकि पांड्या ने फिर शेष चार गेंदें फेंककर ओवर पूरा किया और भारत ने यह मैच छह रन से जीतकर 2-1 से सीरीज अपने नाम की. पहले जिस खिलाड़ी की तारीफ में कोहली ने पढ़े थे कसीदे, उसी को चयन समिति ने किया बाहरश्रीलंका के खिलाफ आगामी टेस्ट सीरीज के भारतीय टीम का ऐलान कर दिया गया है.

हालांकि यह सिर्फ दो मैचों के लिए ही होगा. टीम में एक खास बदलाव हार्दिक पांड्या के रूप में किया गया है. भारतीय क्रिकेट टीम के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या को पहले दो टैस्ट मैचों के लिए टीम में जगह नहीं दी गई है. आइए नजर डालते हैं इन च्स्नड्डष्ह्लह्यज् पर:-

भारत ने किया था ‘क्लीन स्वीप’
इस साल भारत ने जब श्रीलंका का दौरा किया था तो उसने मेजबान देश को तीन टेस्ट मैचों में 3-0 से हराया और फिर वनडे और एक टी-20 मैच में भी क्लीन स्वीप किया था.
8 साल बाद भारत में टेस्ट सीरीज खेलेगी श्रीलंका

श्रीलंका ने भारत में आखिरी बार 2009 में टेस्ट मैच खेले थे और तब तीन मैचों की सीरीज भारत ने 2-0 से जीती थी.श्रीलंका खिलाडिय़ों में अनुभव की कमी मौजूदा श्रीलंका टीम में सिर्फ एंजेलो मैथ्यूज और रंगना हेरथ ही ऐसे खिलाड़ी हैं जो 2009 में भारत के दौरे पर आए थे.

टीम के ज्यादातर खिलाड़ी पहली बार भारत की सरजमीं पर खेलेंगे और खिलाडिय़ों में अनुभव की कमी टीम को इस अहम सीरीज में बड़ा नुकसान पहुंचा सकती है.

Related Posts: