मुख्य और अन्दर के बाजार में जमा हो रहे ठेले, यातायात व्यवस्था हो रही अवरूद

संत हिरदाराम नगर,

संत नगर के मुख्य बाजार और अन्दरूनी बाजार के मार्गों पर हाथ ठेला वालों ने कब्जा जमा लिया है. स्थिति यह है कि सुबह 8 बजे से ही यहां हाथ ठेला वाले रोड जाम कर अपनी दुकानदारी जमा लेते हैं, और यातायात अवरुद्ध कर रोड पर जाम के हालात पैदा कर रहे हैं.

ऐसे में संत नगर के बाजारों में पैदल चलना भी दूभर हो गया है. इसके बावजूद भी नगर निगम द्वारा सिर्फ चेतावनी दी जाती है अतिक्रमण को हटाया नहीं जाता है.

मुख्य मार्ग हो या अंदरूनी बाजार सब्जी ठेले, चाट, फुल्की सहित अन्य व्यवसाय किया जा रहा है. जो अब दुकानदारों, रहवासियों व आने-जाने वालों को लिए मुसीबत बनता जा रहा है.

सबसे ज्यादा परेशानी पंजाब नेशनल बैंक के आसपास है, जहां सब्जी मंडी का बाजार लगने लगा है. मुख्य मार्ग के अलावा अंदरूनी मार्गों पर भी सब्जी के ठेले लगे हुए हैं. निगम अमले द्वारा कोई सख्त कार्रवाई नहीं होने से इनके हौंसले बुलन्द हैं जिससे शाम तक इनकी संख्या दोगुनी हो जाती है.

नगर निगम द्वारा सिर्फ खानापूर्ति की जाती है इसके अलावा उन्हें इनसे निगम रसीद का फायदा हो जाता है जिसके कारण इन्हें हटाया नहीं जाता. इससे यातायात व्यवस्था तो अवरूद्ध होती ही है लेकिन दुकान व्यापारियों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है.

मल्टीलेबल पार्किंग के पास सब्जी व्यवसाइयों का कब्जा

संत कवरराम सब्जी मण्डी को हटा कर सीहोर नाका कालका चौराहे के पास शिफ्ट तो कर दिया गया है लेकिन सब्जी व्यवसाईयों ने फिर से यहां पर ठेले लगा कर कब्जा जमा रखा है.

यहां पर मण्डी को इसलिए हटाया गया ताकि संत नगर की सबसे बड़ी समस्या पार्किंग के लिए मल्टी पार्किंग का निर्माण हो सके जिसका निर्माण कार्य भी चल रहा है.

लेकिन इसके आसपास सब्जी ठेले व्यवसाईयों ने कब्जा कर बाजार लगा लिया है. पार्किंग की बाऊंड्री से लगाकर लाईन से ठेले लगा लिए गए हैं वहीं शाम होते ही इनकी संख्या बढ़ जाती है. अमले द्वारा इन्हें हटाए जाने के बाद भी फिर से वहीं दुकान लगा लेते हैं. इसके कारण बार-बार जाम के हालत उत्पन्न हो जाते हैं.

महापौर ने कहा था…

संत नगर में विगत कई माह पहले आदर्श मार्ग के निरीक्षण पर आए महापौर आलोक शर्मा को रहवासियों और व्यापारियों ने ठेले वालों के सड़क पर कब्जे से अवगत कराया. जिस पर महापौर ने कहा कि जल्द ही पार्षद के साथ बैठक कर हाकर्स नीति बनाई जाएगी.

जिससे हर वार्ड में हाकर्स कार्नर होंगे और ठेले व्यवसाईयों को वहां पर शिफ्ट कर दिया जाएगा. जिससे उनका रोजगार भी नहीं छिनेगा और यातायात व्यवस्था भी सुधरेगी. लेकिन अभी तक ऐसा कुछ देखने को नहीं मिलेगा.

Related Posts: