केन्द्रीय मंत्री सिन्हा की उपस्थिति में नामकरण समारोह सम्पन्न

संत हिरदाराम नगर,

संत हिरदाराम साहिब के नाम से बैरागढ़ रेल्वे स्टेशन का नाम संत हिरदाराम नगर नाम से कर दिया गया है. सोमवार को केन्द्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज कुमार सिन्हा, सांसद आलोक संजर, विधायक रामेश्वर शर्मा ने नामकरण के बोर्ड का उद्वघाटन किया. इस अवसर पर उन्हें कई सामाजिक संस्थाओं ने स्टेशन पर हो रही परेशानियों से भी अवगत कराया.

सिंधी सेन्ट्रल पंचायत के संस्थापक नानक चंदनानी, अध्यक्ष एनडी खेमचंदानी, महासचिव सुरेश जसवानी के सयुंक्त हस्ताक्षरयुक्त ज्ञापन केन्द्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज कुमार सिन्हा को प्रस्तुत कर संत हिरदाराम नगर रेलवे स्टेशन के समुचित विकास एवं इसे टर्मिनल के रूप में विकसित करने की मांग की. ज्ञापन की प्रतियां सांसद आलोक संजर, विधायक रामेश्वर शर्मा एवं डीआरएम भोपाल को भी प्रस्तुत की गई.

पंचायत महासचिव सुरेश जसवानी ने बताया कि रेलवे स्टेशन पर जयपुर चैन्नई, जबलपुर सोमनाथ, माल्वा एक्सप्रेस सहित अनेक सुपर फास्ट व एक्सप्रेस ट्रेनों का स्टापेज है, लेकिन प्लेट फार्म एक और दो पर कोच गाईडेंस की कोई सुविधा नहीं है. जब ट्रेन आती है, तब यात्री अपना कोच ढूंढने के लिए प्लेटफार्म पर भागा दौड़ी करते देखे जाते हैं.

यहां किसी भी ट्रेन का स्टापेज दो मिनिट से अधिक नहीं है, ऐसे में कोच ढूंढने में कई बार ट्रेन मिस हो जाती है इसलिए तत्काल दोनों प्लेटफार्म पर कोच गाईडेंस की स्थापना की जाए. रिजर्वेशन कांऊटर बढ़ाने,, प्लेटफार्म पर शेड की व्यवस्था] साफ सुथरे टायलेट व सफाई की जरूरत की मांग की है.

टर्मिनल के रूप में विकसित हो स्टेशन

बैरागढ़ रेलवे स्टेशन के उत्तरी दिशा में कम से कम 100 एकड़ जमीन खाली पड़ी है, जिसका वर्तमान में कोई इस्तेमाल नहीं हो रहा है, पंचायत ने कहा कि इस खाली जमीन पर अतिरिक्त नए प्लेटफार्म स्थापित किए जाएं और इन प्लेटफार्म से खासतौर पर दिल्ली, मुम्बई, अहमदाबाद, सूरत के लिए नई ट्रेनें चालू की जाएं. संत हिरदाराम नगर रेलवे स्टेशन को टर्मिनल के रूप में विकसित किया जाए.

16 ट्रेनों का हो स्टापेज बैरागढ़ रेलवे स्टेशन पर लम्बी दूरी की 16 ट्रेनो का स्टापेज नहीं है, जिनकी सूची इस पत्र के साथ नीचे संलग्न की जा रही है. हमारा आपसे आग्रह है कि इन सभी ट्रेनों का स्टापेज बैरागढ़ स्टेशन पर किया जाए.

Related Posts: