supreme courtनयी दिल्ली, 31 अगस्त. धार्मिक प्रक्रिया संथारा को गैरकानूनी करार देने के राजस्थान उच्च न्यायालय के फैसले पर आज सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी. जैन समुदाय में संथारा प्रक्रिया का प्रचलन है जिसमें मत्यु के लिए अन्न जल का त्याग कर दिया जाता है.

प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति एच एल दत्तू और न्यायमूर्ति अमिताव राय की पीठ ने उच्च न्यायालय के आदेश पर रोक लगाई और केंद्र, राजस्थान तथा अन्य को नोटिस जारी किए. जैन समुदाय के विभिन्न धार्मिक निकायों ने संथारा पर उच्च न्यायालय द्वारा जारी किए गए आदेश के खिलाफ याचिकाएं दाखिल की थीं. पीठ नत्थी की गई इन याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी.

जैन समुदाय के विभिन्न धार्मिक निकायों ने उच्च न्यायालय के फैसले पर रोक का आग्रह करते हुए दावा किया था कि इसे जैन धर्म के आधारभूत दर्शन एवं सिद्धांतों पर विचार किए बिना जारी किया गया.

Related Posts: