इनसेट में आरोपी डाक्टर सुनील कुमार गुप्ता.

बात नहीं मानने पर दी थी कैरियर बर्बाद करने की धमकी, कस्तूरबा अस्पताल का मामला

ट्रेनी नर्सिंग छात्रा की शिकायत पर पुलिस ने किया गिरफ्तार

नवभारत न्यूज भोपाल,

कस्तूरबा अस्पताल के सीएमओ पर एक ट्रेनी नर्स ने छेडख़ानी व शारीरिक संबंध बनाने के लिए दबाव डालने का आरोप लगाया है. मामला सामने आते ही गोविंदपुरा पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर लिया और सीएमओ को गिरफ्तार कर लिया.

आरोप है कि सीएमओ नवंबर माह से उस पर बुरी नजर रखे हुए थे और शारीरिक संबंध बनाने के लिए दबाव डाल रहे थे. पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है.

पुलिस के मुताबिक ट्रेनी नर्स ने अपनी शिकायत में बताया है कि उसने पिछले साल बीएचईएल के कस्तूरबा नर्सिंग कॉलेज से बीएससी की डिग्री हासिल की. इसके बाद वह कस्तूरबा हॉस्पिटल से नर्सिंग का कोर्स कर रही थी. कोर्स पूरा होने के बाद जब वह सीएमओ डॉ. सुनील कुमार गुप्ता उम्र 58 वर्ष के पास प्रमाणपत्र लेने के लिए गई तो उन्होंने तीन महीने तक छुट्टी पर होने की बात कही.

बाद में जब फरियादिया ने कहा कि उसे प्रमाणपत्र की सख्त आवश्यकता है तो वे प्रमाण पत्र देने को राजी हो गए, लेकिन नर्स से शारीरिक संबंध बनाने की बात कही. पुलिस को दिए आवेदन में नर्स ने बताया कि वे लंबे समय से उस पर बुरी नजर रखे हुए थे.

पहले तो नर्स इनकी हरकतों को नजरअंदाज करती रही, लेकिन जब हद हो गई तो उसने गोविंदपुरा थाने में शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद मंगलवार को पुलिस को डॉ. सुनील कुमार गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया.

युवती के मुताबिक सीएमओ ने यहां तक कह दिया था कि अगर वह उनकी मांगों को पूरा नहीं करेगी तो वे उसका भविष्य बर्बाद कर देंगे. डॉ. गुप्ता को न्यायालय में पेश किया गया, जहां उन्हें जमानत पर छोड़ दिया गया.

व्हाट्सएप पर भी भेजता था मैसेज

पुलिस के मुताबिक फरियादिया ने सीएमओ डॉ. सुनील कुमार गुप्ता द्वारा व्हाट्सएप पर भेजे गई मैसेज भी शिकायत के साथ सौंपे हैं. उक्त सीएओ नर्स के मोबाइल पर कॉल करता रहता था साथ ही अश्लील मैसेज भेजता था.

युवती ने आरोप लगाए हैं कि डॉ. गुप्ता उन्हें किसी तरह छूने का प्रयास करते थे. इतना ही नहीं पुलिस को आवेदन में युवती ने बताया है कि जब वह सोमवार को प्रमाण पत्र लेने के लिए केबिन में गई तो उन्होंने गलत तरीके से छूने का प्रयास किया, जिसके बाद युवती घर पहुंची और मां को जानकारी दी. इसके बाद परिजनों ने थाने में पहुंचकर मामला दर्ज कराया.

Related Posts: