एससीएस बैस ने सेवा समाप्ति का नोटिस देने दिए सीईओ को निर्देश

नवभारत न्यूज भोपाल,

राजधानी भोपाल सहित प्रदेश भर में संविदा कर्मचारियों की हड़ताल से मनरेगा, स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंंत्री आवास योजना का काम बुरी तरह प्रभावित हो रहा है.

साथ ही हड़ताली कर्मियों ने कई जगह जानबूझकर कामकाज प्रभावित करने का मामला भी सामने आया है. ऐसे कर्मचारियों को विभाग के एससीएस इकबाल सिंह बैस ने सेवा समाप्ति के लिए नोटिस जारी करने सभी कलेक्टरों व सीईओ को निर्देश भी दिए है. इससे संविदा कर्मियों में और आक्रोश बढ़ गया है.

संविदा कर्मियों का प्रदेश भर में आंदोलन जारी है. इसी कड़ी में कई स्थानों पर संविदा कर्मियों की हड़ताल से अनेक काम काज प्रभावित होने से योजनाएं ठप्प हो गई है. जबकि ऐसा ही सतना में हड़ताली कर्मचारियों द्वारा कामकाज प्रभावित करने की मंशा से कप्यूटर का पासवर्ग, आईडी के नंबर बदलने का भी मामला प्रकाश में आया है. बताया जाता है कि यह स्थित राज्य के सतना जिले में देखने को मिली है.

सतना जिले के जनपद सोहावल, मैहर, मझगवां, रामपुर बघेलान, उचेहरा, धार जनपद पंचायतों के ब्लाक समन्वक, डाटा एंट्री आपरेटर समेत अन्य पदों पर काम करने वाले संविदा अधिकारी कर्मचारी शामिल हैं.ऐसी दश में शासन के आदेश के आधार पर यहां काम कर रहे हड़ताली संविदा कर्मियों के विरुद्ध एफआईआर कराई गई है.

सरकार ने मांगों के निराकरण के लिए तैयार की योजना

उधर सरकार संविदा कर्मचारियों को नियमित करने की कार्ययोजना तैयार की है. एसीएस वित्त की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने सिफारिश की है कि विभाग संविदा के पदों का परीक्षण कर सेटअप बनाए. समान पदों को चिन्हांकित कर सीधी भर्ती के पदों में संविदा का कोटा निर्धारित किया जाए जिससे एक-एक करके संविदा कर्मचारी नियमित हो जाएं.

कामकाज पर सवाल उठाने से नियमित कर्मियों में आक्रोश

इधर जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों ने रेगुलर (नियमित) कर्मचारियों के कामकाज पर सवाल खड़ेे किए हैं. कलेक्टर और सीईओ जिला पंचायत को चिट्ठी लिखकर कहा गया है कि नियमित कर्मचारियों को आधुनिक तकनीक का ज्ञान नहीं है और न ही प्रशासनिक कार्य क्षमता है.जबकि संविदा कर्मचारी कम पैसों में 80 फीसदी बेहतर काम करते हैं.

इससे कर्मचारी संगठनों में उबाल आ गया है और चेतावनी दी है कि सीईओ ने माफी नहीं मांगी तो मोर्चा खोलेंगे. मामला सतना जिले का है.जनपद पंचायत नागौद, सोहावल, रामनगर और अमरपाटन के मुख्यकार्यपालन अधिकारियों ने बीती 21 मार्च को कलेक्टर और सीईओ जिला पंचायत के नाम लिखे पत्र में कहा गया है कि संविदा कर्मचारी हड़ताल पर हैं जिससे शासकीय कार्य प्रभावित हो रहा है.

Related Posts: