kapil_devदुबई,  पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान कपिल देव का मानना है कि लीजेंड क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर अपनी क्षमता का सही इस्तेमाल नहीं कर सके और वह सक्षम होने के बावजूद यह नहीं जानते थे कि किस तरह से दोहरे, तिहरे शतक और 400 रन बनाये जाते हैं.

कपिल देव ने कहा, मुझे गलत मत समझना लेकिन मेरा मानना है कि सचिन अपनी प्रतिभा के साथ न्याय नहीं कर सके. मुझे हमेशा से यही लगता है कि उन्होंने (सचिन) जितना क्रिकेट को दिया, वह उससे बहुत अधिक दे सकते थे.
56 वर्षीय पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, सचिन खुद को मुंबई क्रिकेट से जोड़े रहे. उन्होंने खुद को अंतरराष्ट्री्रय क्रिकेट से जोडऩे की कभी कोशिश नहीं की. मेरा मानना है कि उन्हें विवियन रिचर्ड्स के साथ अधिक समय बिताना चाहिये था जितना उन्होंने मुंबई के लड़कों के साथ बिताया था और साफ क्रिकेट खेली. वह एक बेहतर क्रिकेटर थे लेकिन कहीं न कहीं मुझे लगता है कि वह सिर्फ शतक लगाना जानते थेे, उन्हें बड़े दोहरे शतक, तिहरे शतक और 400 का स्कोर करना नहीं आता था.

भारतीय टीम को पहली बार विश्वकप जिताने वाले पूर्व कप्तान ने कहा, सचिन क्षमतावान थे. वह तकनीकी तौर पर भी बेहतर थे लेेकिन मुझे लगता है कि रिचर्ड्स की तरह वह गेंदबाजों की बुरी तरह धुनाई नहीं करते थे. रिचर्ड्स उनके मुकाबले बहुत बेहतर थे. यदि मैं सचिन के साथ और अधिक समय बिताता तो मैं उनसे कहता-जाओ, खुलकर खेलो और वीरेन्द्र सहवाग की तरह अपने खेल का आनंद उठाओ.