zakiyaअहमदाबाद,  गुजरात में वर्ष 2002 में गोधराकांड के बाद भडके दंगों के दौरान 28 फरवरी को यहां हुए गुलबर्ग सोसायटी नरसंहार में अन्य 68 लोगों के साथ मारे गये पूर्व कांग्रेस सांसद एहसान जाफरी की विधवा जाकिया जाफरी ने आज इस मामले में यहां विशेष अदालत की ओर से सुनायी गयी सजा पर असंतोष जताते हुए कहा कि वह इसके खिलाफ आगे कानूनी लडायी जारी रखेंगी।

विशेष अदालत ने इस मामले के 24 दोषियों में से 11 को उम्रकैद, एक को दस साल तथा शेष 12 को सात सात साल की सजा सुनायी है। श्रीमती जाफरी ने पत्रकारों से कहा कि वह इससे बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं है। अदालत ने पहले ही 36 को रिहा कर दिया था। अब 24 दोषियों में से कुछ को उम्रकैद और कुछ को कम सजा देना सही नहीं है। सभी को कडी सजा होनी चाहिए थी। उन्होने कहा कि वह इस मामले में आगे कानूनी लडायी लडेंगी।

Related Posts: