onionनई दिल्ली, 23 अगस्त. सूखे से फसल के खराब होने का डर दिखाकर सटोरियों ने प्याज की प्रमुख उत्पादक मंडियों पर कब्जा जमा लिया है। सटोरियों के संकेत पर प्याज के जमाखोर बुरी तरह सक्रिय हो गए हैं।

देश की विभिन्न मंडियों में प्याज की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं। प्याज का पर्याप्त स्टॉक होने के बावजूद कृत्रिम किल्लत से दाम बढ़ गए हैं। महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ सरकार की नाकामी के रूप में भी इसे देखा जा रहा है। देशभर में प्याज की कीमतें रोजाना महाराष्ट्र की नाशिक व लासलगांव प्याज मंडी से खुलती व बंद होती हैं। यही वजह है कि सटोरियों ने उन्हें ही निशाना बनाया है। महाराष्ट में घरेलू प्याज का 60 फीसद उत्पादन होता है। यहां की उक्त दोनों बड़ी मंडियों में प्याज की आवक पिछले दो तीन दिनों में घटकर 2000 टन तक रह गई है।