bpl3भोपाल,  प्रौढ़ महिलाओं एवं पुरूषों की शिक्षा की मुख्य धारा में जोडऩे का सार्थक कार्य समतुल्यता कार्यक्रम (इक्वीलेंसी प्रोग्राम) के माध्यम से संभव हो सकेगा.

पन्द्रह साल से अधिक उम्र के प्रौढ़ नि:शुल्क दे सकेेंगे क क्षा तीसरी, पांचवी एवं आठवीं की परीक्षा. समग्र विकास के लिए पूरा देश साक्षर होना चाहिए. यह बात पारस चन्द्र जैन स्कू शिक्षा मंत्री ने मुख्य अतिथि के रूप में साक्षर भारत अभियान के अंतर्गत समतुल्यता कार्यक्रम (इक्वीलेंसी प्रोग्राम) पर केन्द्रित दो दिवसीय राष्टïीय उन्मुखीकरण कार्यशाला के समापन पर अवसर पर कही.
यह आयोजन भारतीय वन प्रबंध संस्थान भोपाल में किया गया था. निदेशक संजुकता मुदगल ने कहा कि स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग भारत सरकार द्वारा साक्षर भारत अभियान 25 राज्यों एवं एक केन्द्र शासित प्रदेश में चलाया जा रहा है.

इस राष्टïीय कार्यशाला को भोपाल में रखने का मुख्य उद्देश्य है कि इससे म.प्र. मे साक्षर भारत अभियान को गति मिलेगी. समतुल्यता कार्यक्रम (इक्वीलेंसी प्रोग्राम)में 15 साल से अधिक के शिक्षा से वंचित लोगों एवं स्कूल ड्रापआउट को पढ़ाई-लिखाई का एक सुनहरा अवसर
प्राप्त होगा.

Related Posts: