नयी दिल्ली,  वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा है कि नरेन्द्र मोदी सरकार ने किसी बड़े उद्योग अथवा उद्योगपति का कर्ज माफ नहीं किया है, एक टेलीविजन चैनल के कार्यक्रम को संबोधित करते हुये श्री जेटली ने आज कहा कि यह ऋण 2008 से 2010 के बीच का है, बैंकों की गैर निष्पादित राशि (एनपीए) की समस्या बहुत पुरानी है।

उन्होंने कहा कि पाप कोई और करके गया जिसके हल करने की जिम्मेदारी मौजूदा सरकार पर आ गयी है।

गौरतलब है कि किंगफिशर मालिक विजय माल्या पर बैँकों की मोटी रकम और उनके विदेश भाग जाने को लेकर मोदी सरकार निशाने पर रही है।

Related Posts:

मुलायम को पीएम बनाने का संकल्प
केजरीवाल का प्रधानमंत्री पर जेटली को बचाने का आरोप, इस्तीफा मांगा
कांग्रेस ने मनमोहन पर टिप्पणी के मुद्दे पर संसद ठप की
डाक्टर ने लगाई संक्रमित सुई, 33 में एड्स की पुष्टि
भाजपा ने खोखले दावों के अलावा कुछ नहीं किया: सोनिया गांधी
कर्नाटक में चुनावों के मद्देनजर नेताओं का धार्मिक स्थलों का दौरा तेज