bpl1भोपाल,  एकबार फिर सामने आ गया कि अतिक्रमण न हटने का कारण नेताओं का उन्हें संरक्षण होता है. ऐसा ही वाक्या शुक्रवार को राजधानी के एमपीनगर क्षेत्र में लगी अवैध गुमठियां सहित अन्य अतिक्रमण कर लगाई गई दुकानों को हटाने गए निगम अमले सामने आया . जहां अतिक्रमण हटाने गए निगम अमले को विधायक सहित पार्षद का न हटाने को लेकर दबाव आने लगा. जानकारी मिलते ही महापौर वहां पहुंचे और गुमठियां और अतिक्रमण हटाने को लेकर स्वयं ही धरने पर बैठ गए.

एम.पी. नगर जोन-2 सरगम टॉकीज क्षेत्र में सुलभ काम्लेक्स के सामने लगी अवैध भोजनालय, चाय-नाश्ते की दुकान जो एक भाजपा नेता की बताई जा रही है. जिसे पूर्व में निगम हटाने गया था परन्तु दबाव के कारण कोई कार्यवाही नहीं कर पाया था. परन्तु निरंतर इस अतिक्रमण की शिकायत होने पर श्ुाक्रवार को निगम अमला पुलिस बल के साथ फिर कार्यवाही करने पहुंचा. जहां निगम अमले को एकबार दिक्कत का सामना करना पड़ा. अमले पर कार्यवाही न करने का दबाव बनाने क्षेत्रिय विधायक एक बार फिर वहां पहुंच गए.

परन्तु जैसे ही मीडिया वहां पहुंची तो वह उल्टे पैर वापिस हो गए. इसके बाद भी निगम अमले पर कार्यवाही न करने का दबाव बनता रहा. इसकी जानकारी मिलते ही महापौर आलोक शर्मा वहां पहुंचे और अतिक्रमण को हटवाने हेतु स्वयं ही धरने पर बैठ गए. वहीं मौके पर निगम कमिश्रर छबि भरद्वाज भी पहुंच गई और अपर आयुक्त एम.पी. सिंह के नेतृत्व में अतिक्रमण को सख्ती से हटाने के निर्देश दिए. इसके बाद सख्ती से कार्यवाही करते हुए भाजपा नेता के अतिक्रमण को हटाया गया. इसी के साथ प्रगति पेट्रोल पम्प से जैन मंदिर तक भी सख्ती के साथ अतिक्रमण को हटवाया गया.

Related Posts: