12kk9

.

नयी दिल्ली, 12 नवंबर. मुक्केबाज एल सरिता देवी के इंचियोन एशियाई खेलों में पदक लौटाने के मामले पर नरम होती नहीं दिख रही अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी महासंघ ने बुधवार को संकेत दिये कि भारतीय एथलीट को इस व्यवहार के लिये लंबा प्रतिबंध झेलना पड़ सकता है.

दक्षिण क ोरिया के इंचियोन में संपन्न हुये एशियाई खेलों में परिणाम से निराश सरिता ने कांस्य पदक स्वीकार करने से इंकार कर उसे पोडियम पर ही छोड़ दिया था. हालांकि बाद में सरिता ने इस मामले पर मापंी भी मांगी थी लेकिन बाक्सिंग इंडिया के हस्तक्षेप के बावजूद आईबा सरिता को माफ करने के हक में नहीं है. आईबा के अध्यक्ष सीके वू ने मामले पर टिप्पणी करते हुये कहा कि खेलों में पदक लौटाने और खेल भावना का अपमान करने के आरोप में सरिता को कड़ी सजा का सामना करना पड़ेगा. यह संभव है कि आयोग इस मामले में जल्द ही अपना फैसला सुना दे. वू ने साथ ही भारतीय मुक्केबाज की माफी को स्वीकार करने से इंकार करते हुये इस व्यवहार को .अनुचित और अस्वीकार्य. करार दिया. गौरतलब है कि आईबा ने अक्टूबर में सरिता देवी और उनके कोच को अनिश्चित काल तक के लिये प्रतिबंधित कर दिया था. उनके कोच जीएस संधू और एशियाड में भारतीय दल प्रमुख ए जे सुमारीवाला पर भी बैन लगा दिया गया था. वू ने आईबा कांग्रेस से पूर्व दिये अपने बयान में कहा सरिता को उनके व्यवहार के लिये कड़ा प्रतिबंध झेलना होगा. इस मामले पर संस्था, जीरो टोलरेंस, अपनाएगी. यदि आप विजेता होना स्वीकार करते हैं तो आपको पराजय भी स्वीकार करनी होगी.

Related Posts: