mandviभोपाल,  मध्यप्रदेश में पिछले लगभग 12 साल से सत्ता से बाहर कांग्रेस पार्टी प्रदेश में अपना पुराना वैभव कायम करने की कोशिश में अब अपनी सर्जरी में जुट गई है। इसकी शुरूआत महिला कांग्रेस से हुई है।

महिला कांग्रेस अध्यक्ष मांडवी चौहान ने निष्क्रिय महिला कांग्रेस पदाधिकारियाें को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। पार्टी की ओर से आज जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक अध्यक्ष ने राष्ट्रीय नेतृत्व की सहमति के बाद 3 उपाध्यक्ष, 12 महासचिव और 10 प्रदेश सचिवों को तत्काल प्रभाव से पदमुक्त कर दिया है। इसके पीछे के कारणों में उनके प्रभार के जिलाें में पार्टी का कमजोर प्रदर्शन होना भी बताया गया है।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि श्रीमती चौहान ने, पदाधिकारियों द्वारा संगठन के प्रति लापरवाही, लगातार प्रदेश स्तरीय बैैठकों में अनुपस्थित रहने, उनके प्रभार के जिलों में कमजोर प्रदर्शन के साथ ही कार्यालय द्वारा भेजे जाने वाले संगठनात्मक अनुदेशों की अवहेलना के चलते गंभीर विचार विमर्श के बाद उन्हें हटाए जाने का निर्णय लिया है। श्रीमती चौहान ने इस फैसले के बाद बताया कि ऐसे निष्क्रिय पदाधिकारियों के कारण संगठन कमजोर होने लगा था, इसलिए ये फैसला किया गया। अब संगठन में सकारात्मक सोच रखने वाली और गतिशील महिलाओं को अवसर दिया जाएगा।

विज्ञप्ति के अनुसार जिन महिला पदाधिकारियों को आज पद से दायित्व मुक्त किया गया है उनमें प्रदेश उपाध्यक्ष मंजू चौहान, गोपाल कुँवर दुबे, मधु बंसल, महासचिव झूमा सोलंकी, सुनीता तनेेजा, दुर्गेश नंदिनी, प्रमिलासिंह, रंजना शर्मा, निर्मला कोरी, संगीतासिंह बघेल, अनुराधा शेंडगे, कल्पना हारडे, जमुना मरावी, अनुभा शर्मा, ऊषा सोनी, सचिव शांति भदौरिया, नीलम शुक्ला, शशि शुक्ला, विद्या शुक्ला, सविता भंवर, शारदा देवी, भगवती सय्याम, नलिनी मेहरा, रश्मि दीक्षित और विनीता सनोडिया शामिल हैं।

Related Posts:

'नवभारत' के संस्थापक की पुण्यतिथि पर होगा वैचारिक आयोजन
बीआरटीएस रूट के ऊपर से जाएगी मेट्रो
वैष्णो देवी के दर्शन करने तीर्थ यात्री रवाना
एसबीआई महिला क्लब ने दी सिलाई मशीन
अपहृत निशांत को रखा गया था भोपाल में, परिचितों के आसपास घूम रही जांच की सुई
सहकारिता क्षेत्र में होने वाली धोखाधडी में न्याय दिलाना समाजसेवा का काम : डीजीपी