DSCF8129राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन, 
भोपाल, 24 अगस्त. नभासं. राजस्थान हाईकोर्ट द्वारा सल्लेखना के संबंध में दिए गए निर्णय के विरोध में जैन समाज ने सल्लेखना प्रक्रिया का समर्थन किया. राजधानी में हुई रैली में जैन मुनियों ने कहा कि सल्लेखना जैन समाज में भगवान महावीर के समय से चली आ रही है. सल्लेखना ग्रहण करने वाला ना तो जीने की इच्छा रखता है और ना मरने की.

सल्लेखना आत्मा की विशुद्वि होती है. प्रबोधन के बाद जैन मुनियों की अगवानी में मौन रैली निकाली गई, जो बुधवारा, चारबत्ती चौराहा होते हुए राजभवन पहुंची. इसके बाद राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा गया. जैन मुनियों ने कहा कि जब तक सल्लेखना पर निर्णय नहीं हो जाएगा, तब तक समाज शांत नहीं बैठेगा. जैन समाज के लोगों ने अपने प्रतिष्ठïान पूर्णत बंद रखे.

Related Posts: