subratनई दिल्ली,  सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत रॉय की पैरोल अवधि 11 जुलाई तक आज बढ़ा दी.

चीफ जस्टिस तीरथ सिंह ठाकुर, जस्टिस अर्जन सिंह सिकरी और जस्टिस अनिल आर दवे की खंडपीठ ने सहारा प्रमुख की पैरोल अवधि पांच सप्ताह के लिए बढ़ाते हुए शर्त रखी कि वह 11 जुलाई तक 200 करोड़ रुपये जमा कराएंगे.

कोर्ट ने कहा कि यदि वह ऐसा करने में असमर्थ रहते हैं तो उन्हें फिर से जेल भेज दिया जाएगा. पीठ ने कहा कि सहारा प्रमुख देश में कहीं भी जा सकते हैं, लेकिन उन्हें दिल्ली के पुलिस आयुक्त को इसकी सूचना देनी होगी और उनके साथ दिल्ली पुलिस के पांच लोग निगरानी के लिए मौजूद रहेंगे.

शीर्ष अदालत ने सेबी को यह आदेश भी दिया कि वह सहारा समूह की संपत्ति की बोली लगाना जारी रखें. इस बीच रॉय की ओर से संपत्ति का ब्यौरा बंद लिफाफे में पीठ को दिया गया. हालांकि कोर्ट ने टिप्पणी की कि इतनी सम्पत्ति होने का क्या फायदा जब आप पैसे नहीं चुका पा रहे हैं. सहारा प्रमुख को उनकी मां ( 95 वर्षीय छवि रॉय) के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने के लिए छह अप्रैल को चार हफ्ते का पैरोल दिया गया था.

Related Posts: