26kk5बेंगलुरू, 26 अगस्त. कर्नाटक हाईकोर्ट ने प्रतिष्ठित खेल रत्न पुरस्कार के लिए सानिया मिर्जा के नाम की सिफारिश को चुनौती देने वाली परा एथलीट एच एन गिरिशा की याचिका को विचार योग्य पाया और खेल मंत्रालय और इस टेनिस स्टार को नोटिस जारी किये.

गिरिशा की याचिका पर सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना ने प्रतिवादियों को 15 दिन के अंदर नोटिस का जवाब देने के लिये कहा है. स्विट्जरलैंड की मार्टिना हिंगिस के साथ मिलकर विंबलडन महिला युगल खिताब जीतकर इतिहास रचने वाली सानिया के नाम की सिफारिश सरकार से नियुक्त किये चयन पैनल ने देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कार के लिये की है. खेल मंत्रालय ने भी इसे अपनी मंजूरी दे दी है. राष्ट्रपति 29 अगस्त को राष्ट्रपति भवन में एक समारोह में खिलाडिय़ों को खेल रत्न, द्रोणाचार्य और ध्यानचंद पुरस्कारों से सम्मानित करेंगे. हाईकोर्ट की आज की कार्रवाई में न्यायमूर्ति बोपन्ना ने प्रतिवादियों से जवाब देने को कहा कि जब खेल रत्न के लिए अंक प्रणाली को लागू किया गया है तो फिर सानिया के पक्ष में गिरिशा के नाम को क्यों नजरअंदाज किया गया. परालंपिक खेलों के पदक विजेता गिरिशा ने अपनी याचिका में कहा कि वह सानिया की तुलना में यह पुरस्कार पाने के अधिक हकदार थे क्योंकि उनके नाम पर 90 अंक हैं और प्रदर्शन आधारित अंक प्रणाली में टेनिस स्टार उनसे काफी पीछे है.

 

Related Posts: