भोपाल,

दहेज की मांग को लेकर नवविवाहिता को प्रताडि़त कर जलाकर हत्या करने के मामले में अपर सत्र न्यायाधीश अजय सिंह ठाकुर की अदालत ने मृतका के पति सतीश भारती, सास कविता भारती और ससुर हरिप्रसाद भारती को दोषी ठहराते हुए दस वर्ष के सश्रम कारावास और एक हजार रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई है.

वहीं न्यायाधीश ने मृतका के देवर भंवर को प्रकरण प्रमाणित न पाए जाने पर दोषमुक्त कर दिया.अभियोजन के अनुसार 27 जनवरी 2016 को कविता भारती को जली हुई हालत में चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया था. अस्पताल की ओर से इसकी सूचना खजूरी थाना पुलिस को दी गई थी.अस्पताल में इलाज के दौरान 3 फरवरी 2016 को कविता की मृत्यु हो गई थी. कविता की शादी आरोपी से तीन साल पहले हुई थी.

Related Posts: