Supreme-Courtनयी दिल्ली,  उच्चतम न्यायालय ने टाटा मोटर की नैनो कार परियोजना के लिए पश्चिम बंगाल के सिंगूर में तत्कालीन वाम मोर्चा सरकार द्वारा अधिग्रहीत करीब एक हजार एकड़ भूमि का अधिग्रहण आज निरस्त कर दिया । न्यायमूर्ति वी गोपाल गौड़ा और न्यायमूर्ति अरुण कुमार मिश्रा की पीठ ने राज्य सरकार को यह आदेश दिया कि वह जमीन को अपने कब्जे में लेकर उसे संबंधित किसानों को लौटा दे।

न्यायालय ने जमीन लौटाने के लिए सरकार को 12 सप्ताह का समय दिया है। न्यायालय ने स्पष्ट किया है कि जिन किसानों ने जमीन का मुआवजा ले लिया था,वे रकम नहीं लौटायेंगे क्योंकि पिछले 10 साल में संबंधित भूमि अधिग्रहण की वजह से उनकी आजीविका नष्ट हो गयी थी। पीठ ने तत्कालीन बुद्धदेब भट्टाचार्य सरकार पर कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा कि सरकार ने किसानों के साथ धोखा किया है। न्यायालय ने कहा, “निजी कंपनी के लिए ज़मीन अधिग्रहण करना जनहित का फैसला नहीं होता और राज्य सरकार ने इस मामले में सही तरीके से नियमों का पालन नहीं किया, इसलिए यह अधिग्रहण पूरी तरह गैरकानूनी है।”

शीर्ष अदालत ने कहा कि राज्य सरकार ने उस वक्त विरोध कर रहे किसानों की बात तक नहीं सुनी और उन्हें अधिग्रहण के लिए सही मुआवजा भी नहीं दिया गया। अपने फैसले में न्यायालय ने यह भी स्पष्ट किया कि जिन किसानों को मुआवजा मिल चुका है, उनसे वापस नहीं लिया जा सकता, क्योंकि एक दशक से वे अपनी ज़मीनों से वंचित हैं। इससे पहले कलकत्ता उच्च न्यायालय ने सरकार के अधिग्रहण को सही ठहराया था, जिसके खिलाफ किसानों की ओर से गैर सरकारी संगठनों ने शीर्ष अदालल का दरवाजा खटखटाया था।

न्यायालय ने सुनवाई के दौरान तत्कालीन वाम सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा था कि लगता है सरकार ने परियोजना के लिए जिस तरह जमीन का अधिग्रहण किया, वह तमाशा था और नियम-कानून को ताक पर रखकर जल्दबाजी में लिया गया फैसला था। न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा था कि वाम सरकार ने यह तय कर लिया था कि टाटा की परियोजना को ही जमीन देनी है और उसने भूमि अधिग्रहण अधिनियम, 1894 का पूरी तरह पालन नहीं किया गया।

टाटा ने इस मामले को पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ को भेजे जाने की मांग की थी। सिंगूर में किसानों के आंदोलन को देखते हुए टाटा मोटर्स ने अपनी नैनो कार परियोजना को गुजरात में स्थानांतरित कर दिया था, लेकिन टाटा का यह कहना था कि सिंगूर की यह जमीन वह किसी और परियोजना के लिए रखेगी।

Related Posts: