नई दिल्ली,   अपनी बेहतरीन फॉर्म में चल रही भारतीय खिलाड़ी पी. वी. सिंधु ने रविवार को कोरिया ओपन बैडमिंटन टूर्नमेंट जीतकर नया इतिहास रचा.

जापान की नोजोमी ओकुहारा से विश्व चैंपियनशिप में मिली हार का बदला लेकर सिंधु कोरिया ओपन जीतने वाली पहला भारतीय खिलाड़ी बन गईं. महिला एकल वर्ग में एक घंटे 24 मिनट तक चले मैच में सिंधु ने ओकुहारा को 22-20, 11-21, 21-18 से मात देकर जीत हासिल की.

सिंधु के लिए हालांकि, यह जीत आसान नहीं थी. इस मैच में आक्रामक नजर आईं ओकुहारा के आगे कई बार सिंधु को घुटनों के बल आते देखा गया.

सिंधु से कद में छोटी लेकिन फुर्ती में आगे ओकुहारा ने भारतीय खिलाड़ी को पछाडऩे का कोई मौका नहीं छोड़ रही थीं. कई बार वह उन पर भारी पड़ती नजर आईं, लेकिन सिंधु ने भी इस बार जापानी खिलाड़ी को हराने का फैसला किया था और वह ओकुहारा के खिलाफ किसी भी हालत में अपनी हार को दोहराना नहीं चाहती थीं. पहले गेम में सिंधु ने ओकुहारा को 22-20 से हराया,

वहीं दूसरे गेम में वह ओकुहारा के आगे कमजोर नजर आईं और 11-21 से पिछड़ गईं. तीसरा गेम दोनों के बीच अहम था, क्योंकि यह खिताबी जीत का फैसला करने वाला था.

तीसरे गेम में सिंधु ने अपनी सारी ऊर्जा और ताकत को झोंकते हुए किसी तरह ओकुहारा को पछाडऩे में सफलता हासिल की. इस गेम के दौरान एक समय पर सिंधु मैट पर लगभग थक कर लेट गईं, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानने की ठानी थी और इसलिए, वह फिर से उठी और उन्होंने तीसरा सेट 21-18 से जीतकर ओकुहारा को मात दी. उल्लेखनीय है कि इस साल विश्व चैम्पियशिप के फाइनल में ओकुहारा ने सिंधु को मात देकर गोल्ड मेडल जीता था और भारतीय खिलाड़ी को सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा था.

अब सिंधु ने अपना बदला पूरा करते हुए न केवल कोरिया ओपन का खिताब जीता, बल्कि ओकुहारा के खिलाफ खेले गए मुकाबलों का आंकड़ा भी 4-4 से बराबर कर लिया. सिंधु का यह तीसरा सुपर सीरीज खिताब है. इससे पहले, उन्होंने पिछले साल चाइना ओपन सुपर सीरीज प्रीमियर खिताब जीता था उसके बाद इस साल उन्होंने स्पेन की कैरोलीना मारिन को मात देकर इंडिया ओपन का खिताब जीता था.

नैशनल बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद ने सिंधु की जीत को खुशी जतायी. सिंधु की जीत के फौरन बाद गोपीचंद ने कहा, क्या शानदार मैच था! दोनों खिलाडिय़ों ने कड़ी मेहनत और प्रतिबद्धता दिखायी. यह वल्र्ड चैंपियनशिप फाइनल जैसा ही मुकाबला था. हां इस बार नतीजा हमारे पक्ष में था. दोनों ही खिलाड़ी ग्रेट चैंपियन हैं.

Related Posts: