17itc42इटारसी. सुबह करीब 5:30 बजे रेलवे के सेंट्रल केबिन में लगी आग में लाखों रुपए के नुकसान की आशंका है. हालांकि अभी नुकसान का आकलन नहीं किया जा सका है, लेकिन बताया जा रहा है कि यहां रेलवे के सिग्नल सिस्टम को संचालित करने के लिए लाखों रुपए कीमत की मशीनें लगी हैं. घटना की सूचना मिलते ही भोपाल से अपर मंडल रेल प्रबंधक सहित अन्य वरिष्ठ और स्थानीय अधिकारी मौके पर पहुंच गये हैं. आग बुझाने में इटारसी और आर्डनेंस फैक्ट्री की दमकलों ने करीब एक दर्जन फेरे लगाए. इसके अलावा करीब एक सैंकड़ा अग्निशमन सिलेंडर्स का इस्तेमाल किया गया है.

गौरतलब है कि रेलवे स्टेशन के निकट बारह बंगला से सटे सेंट्रल केबिन से ही रेलवे का पूरा सिग्नल सिस्टम संचालित होता है. कौन से ट्रेन कहां है, इसकी जानकारी भी यहीं रहती है. सुबह करीब 5:30 बजे अज्ञात कारणों से आग लगने के बाद पूरा सिग्नल सिस्टम फैल हो गया और रेल जंक्शन पर चारों तरफ से आने वाली ट्रेनें कई घंटे भोपाल, जबलपुर, नागपुर और भुसावल आउटर पर खड़ी रहीं. इस दौरान कुछ ट्रेनें लेट भी हुईं. ट्रेनों को वाकी-टाकी के माध्यम से सूचना देने के बाद मैन्युअल अथॉरिटी के माध्यम से ही चलाया गया. इस तरीके में रेल चालक के पास सूचना भेजी जाती है, कि वह ट्रेन को आगे बढ़ाए. घटना के बाद अपर मंडल रेल प्रबंधक सहित भोपाल और इटारसी के अनेक वरिष्ठ रेल अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गये थे और घटना के कारणों पर पूछताछ चलती रही.

Related Posts: