manmohan singhनई दिल्ली, 31 अगस्त. स्पेशल सीबीआइ जज भरत पराशर के समक्ष सीबीआइ ने कहा कि एचसी गुप्ता ने मनमोहन सिंह को अंत तक अंधेरे में रखा. पूर्व प्रधानमंत्री को यह बताया गया था कि कोल आवंटन को लेकर स्क्रीनिंग कमेटी द्वारा कंपनियों का चुनाव मेरिट के आधार पर किया गया है.

इसके चलते ही उन्होंने फाइल पर हस्ताक्षर कर दिए. इससे पहले एचसी गुप्ता के वकील ने अदालत को बताया कि उनके मुवक्किल केवल स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष थे. कमेटी ने अपनी सिफारिशें मनमोहन सिंह को भेज दी थीं. कोल ब्लॉक आवंटन को लेकर अंतिम निर्णय मनमोहन सिंह ने ही लिया है. अदालत में थेसगोरा-बी रुद्रपुर कोल ब्लॉक आवंटन के मामले में आरोप तय करने को लेकर बहस चल रही है.

Related Posts:

ट्रक-जीप में भिड़ंत 9 की दर्दनाक मौत
आर्थिक सुधारों पर कांग्रेस की मुहर
सुप्रीम कोर्ट के आदेश की उड़ाई धज्जियां, पंजाब में सतलुज यमुना लिंक के खिलाफ प्र...
विधायिका के हक कम होने से कमजोर होगा लोकतन्त्र : जेटली
मकर संक्रांति, पोंगल और बीहू के अवसर पर राहुल गांधी ने दी शुभकामनाएं
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रूस सहित चार देशों की यात्रा पर रवाना