rajnathअहमदाबाद,  केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज कहा कि देश की थल और समुद्री सीमाओं की रक्षा के लिए अाधुनिक तकनीक का इस्तेमाल जरूरी है और केंद्र सरकार के इसके लिए कई परियोजनाओं पर काम कर रही है।

गुजरात के अपने दो दिवसीय दौरे के अंतिम दिन आज श्री सिंह ने पाकिस्तान की सीमा पर नाडाबेट में बीएसएफ के लिए अत्याधुनिक स्वास्थ्य सुविधाओं का लोकार्पण किया तथा पोरबंदर में सत्तारूढ भारतीय जनता पार्टी के केंद्र और गुजरात में दो साल का शासन पूरा होने पर आयोजित विकास पर्व सम्मेलन में भाग लिया।

उन्होंने कहा यह भी दावा किया कि देश में आतंकी घटनाओं में कमी आयी है और देश इससे निपटने में पूरी तरह सक्षम है। श्री सिंह ने कहा कि सीमाओं और तटों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त संख्या में जवान तैनात हैं पर तकनीक का इस्तेमाल भी जरूरी है।

पाकिस्तान की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि भारत अपनी ओर से कभी भी सीमा पर गोलीबारी की शुरूआत नहीं करता और यह सीमा पार से की गयी उकसावे भरी गोलीबारी का मुंहतोड जवाब भर देता है। उन्होंने हालांकि कहा कि यह समझा जाना चाहिए कि दोस्त तो बदल सकते हैं पर पडोसी नहीं बदला जा सकता।

परमाणु सुरक्षा समूह (एनएसजी) के बारे में उन्होंने कहा कि इसकी सदस्यता के लिए भारत की दावेदारी काफी मजबूत है।

केंद्रीय मंत्री ने पोरबंदर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जन्मस्थली कीर्ति मंदिर का भी दौरा किया। वहां पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि मोदी सरकार गांधीजी के ग्राम स्वराज के सपने को पूरा करने की दिशा में काम कर रही है। उन्होंने कहा कि गांधीजी के सिखाये रास्ते पर चल कर ही विश्व में शांति का मार्ग प्रशस्त हो सकता है।

पोरबंदर में आयोजित विकास पर्व सम्मेलन के दौरान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विजय रूपाणी, गुजरात सरकार के मंत्री बाबू बोखिरिया तथा जशाभाई बारड और पोरबंदर जिला भाजपा प्रभारी भारत गाजीपरा भी मौजूद थे।

Related Posts: