जेनेवा,

सीरियाई विपक्ष ने संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व में चल रही शांति बातचीत पर “गंभीर खतरा” बताते हुए अंतरराष्ट्रीय समुदाय से सीरिया सरकार पर इसमें शामिल होने के लिए और अधिक दबाव डालने की अपील की है।

विपक्ष के वार्ताकार नासर हरिरी ने यहां आठवें दौर की वार्ता विफल होने के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकार ने वार्ता प्रक्रिया के प्रति नफरत दर्शाते हुए सभी वार्ता को खारिज कर दिया है।यद्यपि इसके सहयोगी रुस का उसपर दबाव था।हालांकि रुस को भी जिनेवा वार्ता के रास्ते में बाधा डालने वाला माना जाता है।

Related Posts: