सीहोर, किसानों द्वारा किया जा रहा आंदोलन रविवार को और हिंसक हो उठा. स्टेट हाइवे स्थित ग्राम सौंडा के समीप आंदोलनकारी किसानों ने सब्जी व फलों से लदे वाहनों को रोका और उनमें जमकर तोडफ़ोड़ करते हुए चालक व क्लीनर के साथ मारपीट की.

इतना ही नहीं हालात पर काबू करने पहुंची पुलिस पर भी जमकर पथराव किया और तहसीलदार सहित पुलिस के वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया. इस घटना में पुलिस अधिकारी व जवान भी घायल हुए हैं. पुलिस ने लगभग एक दर्जन किसानों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है.

प्रदेश सहित सीहोर जिले में भी किसानों द्वारा एक जून से आंदोलन किया जा रहा है. अब तक लगभग शांतिपूर्ण ढंग से चल रहा आंदोलन रविवार को उस वक्त हिंसक हो उठा जब किसानों ने ग्राम सोंडा के समीप सब्जी से भरे वाहनों को रोककर उनमें तोडफ़ोड़ शुरू कर दी. भीड़ को काबू करने पहुंची पुलिस पर भी किसानों ने जमकर पथराव किया.

इस घटना में सीएसपी एसआर दंडोतिया सहित आधा दर्जन पुलिस के जवान घायल हो गए. हिंसा पर उतारु किसानों ने पुलिस व तहसीलदार के वाहनों में भी जमकर तोडफ़ोड़ की. हिंसक घटना के चलते राजमार्ग पर वाहनों की लंबी कतारें लग गई थीं. किसानों के उपद्रव से निपटने के लिए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है तो भोपाल से भी एक टुकड़ी बुलाई गई है.

किसानों द्वारा किया जा रहा आंदोलन रविवार को और हिंसक हो उठा. स्टेट हाइवे स्थित ग्राम सौंडा के समीप आंदोलनकारी किसानों ने सब्जी व फलों से लदे वाहनों को रोका और उनमें जमकर तोडफ़ोड़ करते हुए चालक व क्लीनर के साथ मारपीट की. इतना ही नहीं हालात पर काबू करने पहुंची पुलिस पर भी जमकर पथराव किया और तहसीलदार सहित पुलिस के वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया. इस घटना में पुलिस अधिकारी व जवान भी घायल हुए हैं. पुलिस ने लगभग एक दर्जन किसानों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है.

प्रदेश सहित सीहोर जिले में भी किसानों द्वारा एक जून से आंदोलन किया जा रहा है. अब तक लगभग शांतिपूर्ण ढंग से चल रहा आंदोलन रविवार को उस वक्त हिंसक हो उठा जब किसानों ने ग्राम सोंडा के समीप सब्जी से भरे वाहनों को रोककर उनमें तोडफ़ोड़ शुरू कर दी. भीड़ को काबू करने पहुंची पुलिस पर भी किसानों ने जमकर पथराव किया. इस घटना में सीएसपी एसआर दंडोतिया सहित आधा दर्जन पुलिस के जवान घायल हो गए. हिंसा पर उतारु किसानों ने पुलिस व तहसीलदार के वाहनों में भी जमकर तोडफ़ोड़ की. हिंसक घटना के चलते राजमार्ग पर वाहनों की लंबी कतारें लग गई थीं. किसानों के उपद्रव से निपटने के लिए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है तो भोपाल से भी एक टुकड़ी बुलाई गई है.

Related Posts: