स्कूल की मान्यता रद्द करने सौंपा ज्ञापन

नवभारत न्यूज रतलाम/नामली

नामली में स्थित सेंट जोसफ स्कूल में राष्ट्रगान के बाद जब भारत माता की जय का घोष लगाने के मामले को लेकर मामला गर्माया हुआ है। जय घोष लगाने पर स्कूल प्राचार्या द्वारा बच्चों को दंडित किए जाने के विरोध में सोमवार को नामली बंद का आव्हान पूरे नगरवासियों द्वारा किया गया और पूर्ण रूप से सफल रहा।

बंद के दौरान झंडा चौक (सदरबाजार) में नगर के सभी समाज के वरिष्ठजनों ने मंच के माध्यम से स्कूल प्रबंधक की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लगाने के साथ-साथ ही स्कूल की मान्यता रद्द करने के लिए जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा गया।

सोमवार को हिन्दू संगठन एवं नगरवासियों द्वारा नगर बंद का आव्हान किया गया था। आव्हान के चलते नगर पुरी तरह से दोपहर तक बंद रहा। झंडाचौक पर मंच पर नगर के सभी समाज के वरिष्ठों को आमंत्रित किया गया था। मंचासीन सभी वरिष्ठों ने अपने सेंट जोसफ स्कूल की कार्यप्रणाली का विरोध करते हुए स्कूल की मान्यता रद्द करने की मांग की।

सभी ने अपने विचारों के माध्यम से स्कूल प्रबंधन पर कार्रवाई करने की मांग करने के साथ ही कहा कि जो स्कूल भारत देश में संचालित हो रहा है और उसी में भारत माता की जयकार का विरोध किया जाता है तो ऐसे स्कूल को हिन्दुस्तान में नहीं होना चाहिए।

यह हुआ था घटनाक्रम

11 जनवरी को सेंट जोसफ स्कूल में राष्ट्र गान के बाद कुछ विद्यार्थियों ने भारत माता की जय का घोष किया था। इसका विरोध स्कूल की प्राचार्या द्वारा आपत्ती ली गई थी। भारत माता की जय कहने पर 31 विद्यार्थियों के साथ अभद्र व्यवाहर करते हुए 3 घंटे तक स्टोर रूम मे खुले ठंडे फर्श पर बैठा दिया गया था साथ ही इन विद्यार्थियों को प्री-बोर्ड की परीक्षा से भी वंचित रखा गया।

उस समय विद्याथियों ने बताया था कि प्राचार्या ने यह कहा था कि अगर अभिभावकों या किसी अन्य को कुछ कहा तो स्कूल से निकाल दिया जावेगा। जब इस बात की जानकारी हिन्दू संगठन के लोगों को लगी तो उन्होंने उसका विरोध करते हुए थाने पर भी शिकायत की थी।

बच्चे डरे व सहमें हुए हैं

इस घटना के बाद स्कूल प्राचार्या ने विद्यार्थियों को धमकी दी थी कि उन्होंने किसी को कुछ बताया तो वह उन्हे स्कूल से निकाल देगी। इस कारण विद्यार्थी डरे एवं सहमें हुए है। घटना वाले दिन भी विद्यार्थियों एवं अभिभावक भी बोल ने से कतरा रहे थे। लेकिन जैस-जैस यह बात फैली और नगरवासी एकजुट हुए तब सभी सामने आए और इस प्रकार के स्कूल को बंद होने की आवाज उठने लगी।

Related Posts: