sensexमुंबई,  वैश्विक स्तर पर लौटी तेजी के बीच घरेलू शेयर बाजार भी शुरुआती गिरावट से उबरने में कामयाब रहे। सेंसेक्स 328.37 अंक चढ़कर लगभग चार महीने बाद 26 हजार अंक के पार 26007.30 अंक पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 107.60 अंक की बढ़त के साथ आठ हजार अंक की ओर लपकता हुआ 7962.65 अंक पर रहा। एशियाई बाजारों में आरंभ में गिरावट रही। इसके दबाव बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 74.01 अंक फिसलकर 25604.92 अंक पर खुला और बिकवाली के दबाव में 25549.05 अंक तक लुढ़क गया।

लेकिन, आज से शुरू हो रही अमेरिकी फेडरल रिजर्व तथा बुधवार से होने वाली बैंक ऑफ जापान की महत्वपूर्ण बैठकों से पहले निवेशकों के अनुमानों में सुधार के कारण दुनिया भर के बाजारों में चार दिन बाद लौटी तेजी के कारण घरेलू बाजार में भी निवेश धारणा मजबूत हुई। दोपहर बाद सेंसेक्स ने अचानक उड़ान भरी और 26 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार 26055 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर को छूता हुआ कारोबार की समाप्ति पर गत दिवस की तुलना में 1.28 प्रतिशत यानी 328.37 अंक चढ़कर इस साल 01 जनवरी के बाद के ऊँचे स्तर 26007.30 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 26.90 अंक टूटकर 7828.15 अंक पर खुला।

कारोबार के दौरान 7822.55 अंक के दिवस के निचले तथा 7974.50 अंक के उच्चतम स्तर को छूता हुआ गत दिवस के मुकाबले 1.37 फीसदी यानी 107.60 अंक की बढ़त के साथ यह 01 जनवरी के बाद के उच्चतम स्तर 7962.65 अंक पर बंद हुआ। बाजार में लिवाली का जोर चौतरफा रहा। सेंसेक्स की 27 कंपनियाँ हरे निशान में तथा तीन लाल निशान में रहीं जबकि निफ्टी में 42 कंपनियों के शेयर में बढ़त देखी गई। अच्छे वित्तीय परिणाम से मारुति सुजुकी में सबसे ज्यादा 3.62 प्रतिशत की तेजी रही। टाटा स्टील के शेयर भी तीन फीसदी से ज्यादा चढ़े। बीएसई के सभी समूह बढ़त में बंद हुये।

सर्वाधिक 2.02 प्रतिशत की तेजी बैंकिंग समूह में रही। कुल 2739 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1581 को मुनाफा और 983 को नुकसान हुआ जबकि 175 के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे। मझौली तथा छोटी कंपनियों के शेयरों में अपेक्षाकृत कम बढ़त देखी गई। बीएसई का मिडकैप 0.79 प्रतिशत ऊपर 11090.49 अंक पर बंद हुआ जबकि स्मॉलकैप 0.68 फीसदी की बढ़त के साथ 11111.11 अंक पर रहा।

Related Posts: