pranabनयी दिल्ली,  राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने सेवा क्षेत्र को इस सहस्राब्दी का उद्योग करार देते हुए कल कहा कि रोजगार सृजन, कौशल विकास, विदेशी प्रत्यक्ष निवेश, व्यापार एवं रणनीतिक भागीदारी को बढावा देने वाला यह क्षेत्र देश में परिवर्तन का वाहक है।

श्री मुखर्जी ने ग्रेटर नोएडा में वैश्विक सेवा प्रदर्शनी 2016 का उद्घाटन करते हुए कहा कि भारत में सेवा सर्वाधिक नौ प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर से बढ रहा है।
वर्ष 2014 -15 में सकल घरेलू उत्पाद में सेवा की भागीदारी 66 प्रतिशत तक पहुंच गयी है जबकि वर्ष 1990- 91 में यह 41 प्रतिशत थी।

Related Posts: