इन्दौर. 26 सितंबर, सोने और चांदी की कीमतों में बेतहाशा तेजी से चिंतित ग्राहकों के लिए खरीदारी का मौका दस्तक दे रहा है। डॉलर की मजबूती के चलते  पिछले कुछ दिनों से सोने और चांदी पर बढ़ता आ रहा दबाव सोमवार सुबह जबर्दस्त गिरावट लेकर आया.

इन्दौर में शुरुआती दौर में आज चांदी के भाव शनिवार के मुकाबले लगभग पांच हजार रुपए किलो और सोने के भाव950 रुपए प्रति दसग्राम टूटे थे. हालांकि बाद में बाजार कुछ कवर हुए तो मंदी का आकार घट गया. वैश्विक सर्राफा बाजारों में तेज गिरावट के बाद सर्राफा बाजार में सोने की कीमतों में 1,540 रुपये प्रति 10 ग्राम की गिरावट दर्ज की गई। शुरूआती कारोबार में सोना एक कारोबारी दिन में इस सबसे बड़ी गिरावट से 25,800 रुपये पर आ गया था। एशियाई बाजार में सोना करीब 124 डॉलर प्रति औंस टूट गया।

सोना और चांदी …
यूरोपीय सरकारों द्वारा क्षेत्रीय ऋण संकट पर काबू पाने में विफल रहने की बढ़ती आशंका से शेयर एवं जिसों में जबरदस्त नरमी आई है। सिंगापुर में सोने की कीमत 124 डॉलर घटकर 1,532.72 डॉलर प्रति औंस पर आ गई, जबकि चांदी 9.70 डॉलर टूटकर 26.07 डॉलर प्रति औंस पर आ गई।
चांदी वायदा 9 फीसदी नीचे
एमसीएक्स पर सोना करीब 4 फीसदी टूटकर 25,679 रुपये प्रति दस ग्राम तक आ गया, जबकि चांदी 9 फीसदी की रिकॉर्ड गिरावट के साथ 48,891 रुपये प्रति किलोग्राम तक आ गई। भारी गिरावट के चलते एक समय एमसीएक्स पर कारोबार बंद कर दिया गया। सुबह के कारोबार में ईटीएफ गोल्ड भी धराशायी हुआ। लगभग सभी ईटीएफ करीब 6फीसदी तक गिरे।
अब ग्राहकी बढ़ेगी
व्यवसायी रितेश संघवी ने कहा कि ऊंची कीमतों के चलते बाजार से ग्राहक गायब थे। त्योहारी सीजन आने वाला है और उसके बाद शादियां शुरू होने वाली हैं, ऐसे में आम घरेलू लोगों के लिए खरीदारी का यह अच्छा मौका है. हालांकि कुछ  व्यापारियों का कहना है कि सोने में लगातार गिरावट नहीं आ सकती, यह कुछ दिनों बाद ही बाउंस बैक करेगा। ऐसे में ग्राहकों को चाहिए कि शादियों के लिए भी शॉपिंग अभी शुरू कर दें।

विशेषज्ञों की राय
कारोबारियों और कमोडिटी विश्लेषकों का कहना है कि सोने का 26,000 के नीचे आना मामूली बात नहीं है। गिरावट और भी बढ़ सकती है, लेकिन आम ग्राहकों को चाहिए कि वह ज्यादा इंतजार न करते हुए थोड़ी-थोड़ी खरीदारी अभी से शुरू कर दे। चांदी में गिरावट की वजह कमजोर वैश्विक रुख के बीच इस तरह की अटकलों की वजह से आई कि यूरोपीय सरकारों को क्षेत्र के ऋण संकट को काबू करने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ेगा।

यूरो क्षेत्र की अनिश्चितता से सेंसेक्स 111 अंक और टूटा
मुंबई. यूरोपीय क्षेत्र के संकट को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच एशियाई शेयर बाजारों में आई गिरावट से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स गत सप्ताहांत की तुलना में 111 अंक घटकर 16,051.10 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स में तीन दिन में 1115 अंक की भारी गिरावट आ चुकी है। 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स एशियाई बाजारों में गिरावट के बीच एक समय घटकर 15,801.01 अंक तक नीचे चला गया था, लेकिन बाद में यूरोपीय बाजारों में बाजार ऊंचे खुलने के साथ ही स्थिति में कुछ सुधार हुआ।

लाईफ टैक्स गिरोह …
जिससे कई खुलासे हो सकते है आरोपियों की संख्या और मददगारों के नाम भी उजागर होने की संभावना है. प्रकरण में आबिद और पप्पू मंडलोई को सिमी और बजरंग दल के सदस्यों के रूप में देखा जा रहा है जिससे पुलिस की परेशानियां बढ़ती नजर आ रही है. दरअसल पिछले कुछ समय से खंडवा सिमी आतंकीओं का गढ़ रहा है और पिछले माह हुई प्रदेश स्तरीय कार्यवाही में 10 से अधिक क ार्यकर्ता की गिरफ्तारी हुई है. ऐसे में बजरंग सदस्य का नाम आने से पुलिस फुंक-फुंक कर कदम रख रही है. हालाकि पुलिस ने दोनों आरोपियों के किसी संगठन से जुड़े होने का इंनकार कर रही है.

पप्पू निकाला जा चुका था बजरंग दल से…
बजरंग विभाग संयोजक किशोर यादव के अनुसार लगभग 2 वर्ष पूर्व पप्पू मंडलोई को बजरंग दल की सदस्यता से निष्कासित कर दिया गया था. पप्पू का सीधे तौर पर बजरंग दल से कोई संबंध नही है.

करेक्शन जरूरी था
इंदौर. सर्राफा एसोसिएशन के  अध्यक्ष हुकमचंद सोनी का कहना है कि बाजार में यह करेक्शन जरुरी था. चांदी और सोने के भाव में तेजी का कोई ठोस कारण नहीं था. वैसे भी श्राद्धपक्ष में ग्राहकी और भाव कम ही रहते आए है, लेकिन इतनी ज्यादा गिरावट श्राद्धपक्ष में पहली बार आई है.
ग्राहकों का रूझान फिर बढ़ेगा
सागर. सोने-चांदी के व्यापारी अशोक अग्रवाल ने बताया कि पिछले कुछ समय से कीमतों में भारी वृद्धि से ग्राहकी पर विपरीत असर पड़ा था, लेकिन अब कीमतें गिरने से लोगों का रुझान फिर बढऩे लगा है. उन्होंने आशंका व्यक्त की कि वायदा कारोबार पर ही कीमतों में वृद्धि और गिरावट निर्भर रहेगी.

Related Posts: