SOLIभारत में कानून के क्षेत्र में अथॉरिटी माने जाने वाले पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली सोराबजी ने  असंतोष का मुंह बंद करना गलत है लेकिन हिंसा को उकसावा देना राजद्रोह के अंतर्गत आता है.

अफजल गुरु की फांसी को गलत कहना गलत नहीं है. सोराबजी ने कहा, अगर कोई ऐसा कहता है कि अफजल गुरु की फांसी गलत थी तो यह राजद्रोह नहीं है. लेकिन अगर कोई कहता है कि अफजल गुरु के साथ जो कुछ हुआ, वे इसका बदला लेंगे तो यह राजद्रोह है.

Related Posts: