मासूम बाल-बाल बचे, पार्षद व लोगों ने मामला दर्ज कराने दिया आवेदन

भोपाल,

श्यामला हिल्स थाना अंतर्गत गांधी भवन के पास एक मकान पर पेड़ गिराए जाने की सूचना के बाद वहां पार्षद सहित रहवासी एकत्रित हो गए और स्मार्ट सिटी अंतर्गत काम कर रही कंपनी के विरूद्ध एफआईआर की मांग करने लगे.

मौके पर पहुंचे नगर निगम के अधिकारियों ने जांच कराने की बात कही, वहीं स्थानीय लोगों ने श्यामला हिल्स थाने में शिकायती आवेदन दिया.

उनका कहना है कि जब न्यायालय से स्थगन मिला हुआ है, फिर सड़क का निर्माण कैसे किया जा रहा है, साथ ही पेड़ गिरने से हुई हानि के लिए वे जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग करने लगे. नगर निगम व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने पहुंचकर मामला शांत कराया और उचित कार्रवाई की बात कही.

दरअसल नगर निगम द्धारा पॉलीटेक्निक चौराहे से भारत माता चौराहे तक सड़क का निर्माण स्मार्ट सिटी के तहत किया जा रहा है, लेकिन निर्माण कार्य के बाद से स्थानीय लोग इसका विरोध कर रहे हैं.

इसको लेकर न्यायालय में रिट दायर की गई जिसके बाद न्यायालय ने आदेश दिए कि नप्ती कराकर रिपोर्ट पेश की जाए. इस मामले में न्यायालय में सुनवाई 21 जनवरी नियत है, तब तक रोक लगाई गई है, लेकिन इसके बाद भी निर्माण कार्य चल रहा है.

गुरूवार रात्रि में 70 साल पुराने पेड़ को काटा जा रहा था कि तभी वह अरेबियन कॉटेज के एक मकान पर जाकर गिर पड़ा, जिससे मकान में दरारें आ गई और घर में मौजूद दो बच्चे बाल बाल बच गए.

इसके बाद सुबह से वहां पर लोग निर्माण कार्य का विरोध करना शुरू हो गए. इसके बाद पार्षद शविस्ता जकी ने उक्त कंपनी पर एफआईआर की मांग करते हुए कहा कि कोर्ट के स्थगन के बाद भी कार्य जारी है. स्थानीय लोगों के साथ पहुंची पार्षद ने शिकायती आवेदन थाने में दिया, देर रात तक पुलिस कार्रवाई में जुटी थी.

जनहानि हो जाती तो कौन होता जिम्मेदार

लोगों का कहना था कि गनीमत यह रही कि पेड़ गिरने से कोई दुर्घटना घटित नहीं हुई, दो मासूमों की जिंदगी खतरे में आ गई थी. नगर निगम के अधिकारियों का कहना है कि मामले की जांच कराई जा रही है, साथ ही इस बात की वस्तुस्थिति भी ली जा रही है कि पेड़ों को काटने की अनुमति ली गई थी या नहीं?

Related Posts: