bpl3भोपाल,  राजधानी भोपाल को स्मार्ट सिटी बनाने हेतुें 45386 फेक आईडियों से एक ही व्यक्ति द्वारा कई बार सुझाव दिए जाने काु खुलासा हुआ. महापौर द्वारा भोपाल को स्मार्ट सिटी बनाए जाने हेतु जनता से सुझाव मांगे गए थे. इतना ही नहीं, एक नगर निगम कर्मचारी द्वारा तो 4613 बार अपने सुझाव पीएमओ आफिस को दिए गए हैं.

कांग्रेस पार्षद अमित शर्मा एवं योगेन्द्र गुड्ïडू चौहान द्वारा मंगलवार को प्रेसवार्ता कर खुलासा किया गया कि राजधानी भोपाल को स्मार्ट सिटी बनाए जाने हेतु जिन सुझावों के आधार पर चयन हुआ है. उसमें से 45386 सुझाव फेक आईडी से एक ही व्यक्ति द्वारा कई बार दिए गए हैं.

पार्षदों द्वारो आरोप लगाते हुए बताया कि यह सभी सुझाव नगर निगम में विभिन्न वार्डो व अन्य कार्यालयों में पदस्थ कर्मचारियों सहित नगर निगम द्वारा हायर किए गए लोगों द्वारा फर्जी तरीके से दिए गए है. उन्होंने बीएसएनएल अॅाफिस से मिली जानकारी के अनुसार नगर निगम में पदस्थ कर्मचारियों के नामों का खुलासा कर सुनील कुमार जो पीआरओ सेक्शन में पदस्थ हैं, उनके द्वारा 602, प्रियंका भोंसले द्वारा 4613, संगीता यादव द्वारा 243, अलवेज खान द्वारा 252, आविद खान द्वारा 146, सपना बघेल द्वारा 104, माली देवन द्वारा 95 , उपासना रघुवंशी द्वारा 51 , भूपत सिंह जाटव द्वारा 64 सहित अन्य के नामों द्वारा फेक आईडी से कई बार स्मार्ट सिटी बनाए जाने हेतु सुझाव दिए जाने की बात कही है तथा आरोप लगाया है कि यह सभी सुझाव इन लोगों से महापौर आलोक शर्मा व निगम कमिश्रर तेजस्वी एस नायक द्वारा कहे अनुसार पीएमओ आफिस को भोपाल स्मार्ट सिटी के चयन हेतु दिए गए ं. जो सायवर कानून के अनुसार अपराध की श्रेणी में आता है.

गृहमंत्री को देंगे ज्ञापन
पार्षदगणों द्वारा बताया गया कि यह सभी लोग जिन के द्वारा फेक आईडी से सुझाव दिए गए है. उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाना चाहिए. इसके लिए बुधवार को कांग्रेस पार्षद दल द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष पी.सी. शर्मा के नेतृत्व में गृहमंत्री बाबूलाल गौर को एक ज्ञापन दिया जाएगा.