haryanaरोहतक,  हरियाणा सरकार द्वारा गुरुवार तक मांगें नहीं माने जाने पर जाटों ने फिर से आंदोलन की धमकी दी है. गुरुवार को जाट प्रतिनिधियों द्वारा दी जा रही डेडलाइन खत्म हो रही है. आरक्षण के समर्थन में उतरते हुए कांग्रेस नेताओं ने धरना शुरू कर दिया है.

उधर, सरकार ने कहा है कि वादे के मुताबिक बिल पेश करेंगे, लेकिन बिल गुरुवार को पेश नहीं किया जाएगा. जाटों द्वारा फिर आदंलोन शुरू करने की धमकी के तहत रोहतक में प्रमुख स्थानों और चौराहों पर सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है. हरियाणा सरकार में मंत्री अनिल विज ने कहा है, जाट बिल जरूर लाया जाएगा. जाट बंधुओं से कहना चाहता हूं कि धमकियां देना बंद करें.

हरियाणा के अडिशनल चीफ सेक्रटरी (गृह) पीके दास ने कहा है, हमें खबर मिली है कि जाट आंदोलनकारी कई जगहों पर जमा हो रहे हैं. यह नहीं कह सकते कि बिल आज ही पेश किया जाएगा, पर निश्चित तौर पर इस सत्र में पेश किया जाएगा. रोहतक के एसएसपी शशांक आनंद ने कहा है, हम देखेंगे कि इंटरनेट सेवाओं को बंद करने की जरूरत तो नहीं है, लोगों से अपील है कि अफवाहों पर ध्यान न दें. धमकी को देखते हुए हरियाणा सरकार ने बुधवार को संवेदनशील क्षेत्रों में तैनाती के लिए केंद्र से अर्धसैनिक बलों की मांग की थी. रोहतक रेंज के पुलिस महानिरीक्षक संजय कुमार ने कहा, केंद्र से (राज्य गृह विभाग के माध्यम से) अर्धसैनिक बलों की मांग की गई है.

Related Posts:

कलाम को नहीं मिलेगी तलाशी से छूट
विकास ही नक्सलवाद का जवाब-सोनिया
हरीश रावत सरकार को 31 मार्च को बहुमत साबित करने का निर्देश
अमरनाथ यात्रा के पहले दिन 8000 श्रद्धालु दर्शन के लिए रवाना
पासपोर्ट में पिता के नाम की अनिवार्यता समाप्त हो : मेनका
मोदी विक्रमसिंघे के बीच शिखर बैठक, आर्थिक परियोजनाओं पर सहयोग का किया करार